राष्ट्रपति के संबोधन के साथ शुरू होगा बजट सत्र, वित्त मंत्री अरुण जेटली पेश करेंगे आर्थिक सर्वे

Advertisements

NEWS IN HINDI

राष्ट्रपति के संबोधन के साथ शुरू होगा बजट सत्र, वित्त मंत्री अरुण जेटली पेश करेंगे आर्थिक सर्वे

नई दिल्ली। नई दिल्ली। संसद का बजट सत्र आज से शुरू होगा। इस सत्र की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के संयुक्त संबोधन से होगी जिसके बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली आर्थिक सर्वे पेश करेंगे। 1 फरवरी को संसद में केंद्र सरकार देश का आम बजट पेश करेगी। इस सत्र में बजट के अलावा तीन तलाकसमेत कई अहम बिलों पर चर्चा होगी। तीन तलाक से जुड़ा बिल लोकसभा में पास हो चुका है लेकिन राज्यसभा में विपक्ष ने इसकी राह रोक रखी है। माना जा रहा है कि संसद का बजट सत्र भी हंगामेदार हो सकता है। रविवार को पहले सरकार और फिर लोकसभा अध्यक्ष की सर्वदलीय बैठक में यह बात स्पष्ट रूप से सामने आई।

विपक्ष सबसे पहले सुप्रीम कोर्ट के संवैधानिक संकट, करणी सेना के उत्पात और कासगंज की सांप्रदायिक घटना जैसे मुद्दों पर चर्चा के लिए सरकार को राजी करना चाहता है। वह भी अपनी शर्तों पर। दूसरी तरफ, सरकार एक साथ तीन तलाक और ओबीसी आयोग जैसे मुद्दों पर आगे बढ़ना चाहती है। ऐसे में फिर से अवरोध उत्पन्न हो तो आश्चर्य नहीं। रविवार को पहले सरकार की और फिर लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की सर्वदलीय बैठक हुई। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी आए और उन्होंने सभी दलों से अपील की कि बजट सत्र के महत्व को देखते हुए सहयोग के साथ सदन चलाएं।

उन्होंने कहा कि सरकार विपक्ष के सुझावों को गंभीरता से लेती है। विपक्ष को यह भरोसा भी दिलाया कि सरकार किसान, रोजगार व आर्थिक स्थिति जैसे मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे, गुलाम नबी आजाद, सपा नेता मुलायम सिंह, भाकपा के डी राजा, द्रमुक की कनीमोरी, तृणमूल के सुदीप वंद्योपाध्याय, राकांपा के तारिक अनवर समेत शिवसेना और कुछ विपक्षी दलों के नेता मौजूद थे। लोकसभा अध्यक्ष की बैठक में भी इनकी मौजूदगी थी। पर सत्तापक्ष और विपक्ष की प्राथमिकताएं अलग-अलग थीं। दरअसल, सरकार चाहेगी कि राज्यसभा में तीन तलाक और ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने संबंधी बिल पर पहले फैसला हो। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने बजट सत्र के एजेंडे की जानकारी देते हुए बताया कि तीन तलाक बिल को राज्यसभा से पास कराना उनकी प्राथमिकता में है। विपक्ष को इस मामले में जीएसटी जैसी सर्वसम्मति दिखानी चाहिए।

कोविंद पहली बार करेंगे संसद को संबोधित
बजट सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का अभिभाषण होगा। वे संसद के दोनों सदनों को संयुक्त रूप से संबोधित करेंगे। यह संसद में उनका पहला अभिभाषण होगा। परंपरा के अनुसार, संसद का बजट सत्र राष्ट्रपति के संबोधन से शुरू होता है। इसमें राष्ट्रपति सरकार की योजनाओं का खाका देश के सामने रखते हैं।

विपक्ष आज बनाएगा रणनीति
विपक्ष सोमवार सुबह संसद परिसर में ही बैठक कर सरकार को घेरने की रणनीति तय करेगा। हरियाणा में हो रही दुष्कर्म की घटनाओं पर भी केंद्र से सवाल पूछा जाएगा। गणतंत्र दिवस के अवसर पर राहुल गांधी को छठी लाइन में सीट देने पर भी सवाल उठाया जा सकता है। सूत्रों की मानें, तो बजट पेश होने तक कोई अवरोध नहीं होगा। लेकिन उसके बाद संसद का माहौल गर्म रहेगा। गौरतलब है कि फरवरी में उत्तर पूर्व के तीन राज्यों में चुनाव है। कांग्रेस के साथ-साथ वाम मोर्चा के लिए भी यह चुनाव अहम है।

 

NEWS IN English

Budget session will start with the address of President, Finance Minister Arun Jaitley will present Economic Survey

new Delhi. new Delhi. The budget session of Parliament will start from today. This session will begin with the joint address of President Ramnath Kovind after which Finance Minister Arun Jaitley will present the Economic Survey. In the Parliament on February 1, the Central Government will present the country’s general budget. Apart from the budget, many important bills will be discussed in addition to the budget of three divorces. The bill related to the three divisions has been passed in the Lok Sabha but the opposition in the Rajya Sabha has stopped its way. It is believed that the budget session of the Parliament can also be rigid. This matter was clearly revealed on Sunday in the all-party meeting of the first government and then the Speaker of Lok Sabha.

The Opposition wants to persuade the government to discuss issues such as the constitutional crisis of the Supreme Court, the incidence of the Karani army and the communal incidents of Kasganj. That too on their terms On the other hand, the government wants to move forward on issues like the three divorces and the OBC Commission. It is not surprising if there is a barrier again. On Sundays, the all-party meeting of the first government and then Lok Sabha Speaker Sumitra Mahajan was held. Prime Minister Narendra Modi also came in the meeting and appealed to all parties that in view of the importance of the budget session, run the House with cooperation.

He said that the government takes the suggestions of the opposition seriously. The opposition also assured the opposition that the government was ready to discuss issues such as farmers, employment and economic status. In the meeting, Home Minister Rajnath Singh, Finance Minister Arun Jaitley, Congress leader Mallikarjun Kharge, Ghulam Nabi Azad, SP leader Mulayam Singh, CPI’s D Raja, DMK’s Kanimori, Trinamool’s Sudip Vandyopadhyay, TMC including Tariq Anwar of NCP and some opposition parties The leaders were present. He was also present in the meeting of the Speaker of the Lok Sabha. But the priorities of the ruling party and the opposition were different. Actually, the Government would like to have the first decision on the bill to give constitutional status to three divorces and OBC commissions in the Rajya Sabha. While giving information about the agenda of the budget session, Parliamentary Affairs Minister Ananth Kumar said that the passage of the three divorced bills from the Rajya Sabha is in their priority. The opposition should show consensus like GST in this case.

Kovind first address to Parliament
President Ramnath Kovind’s address will be addressed on the first day of the budget session. They will jointly address both the Houses of Parliament. This will be his first address in parliament. According to tradition, the budget session of Parliament begins with the address of the President. In this, the plans of the President’s government are kept in front of the country.

Opposition will make strategies today
The Opposition will meet the Parliament premises on Monday and decide on the strategy to circumvent the government. The Center will also be asked questions on the incidents of rape in Haryana. On the occasion of Republic Day, Rahul Gandhi can be questioned in the sixth line. If you think of the sources, then there will be no barriers until the budget is presented. But then the atmosphere of Parliament will remain warm. It is significant that in February there are elections in three states of the northeast. This election is also important for the Congress as well as the Left Front.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.