मप्र समेत देशभर के कॉलेजों की सीसीआईएम करेगा निगरानी, देर से आने वालों का कटेगा वेतन

Advertisements

NEWS IN HINDI

मप्र समेत देशभर के कॉलेजों की सीसीआईएम करेगा निगरानी, देर से आने वालों का कटेगा वेतन

भोपाल। मध्यप्रदेश समेत देशभर के आयुर्वेद, यूनानी, प्राकृतिक चिकित्सा और सिद्घा कॉलेजों को डॉक्टर व अन्य स्टाफ पर अब तक की सबसे बड़ी सख्ती की गई है। वे समय पर अस्पताल पहुंचें, इसके लिए आधार कार्ड इनेबल जीपीएस बेस्ड बायोमीट्रिक अटेंडेंस सिस्टम (एजीबीएएस)लगाया जा रहा है। देर से आने वालों का वेतन काटा जाएगा। बुधवार से इन कॉलेजों में डॉक्टरों समेत सभी स्टाफ की हाजिरी इसी सिस्टम से लगेगी। सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन (सीसीआईएम) ने सभी कॉलेजों को 30 जनवरी तक स्टाफ का पंजीयन इस अटेंडेंस सिस्टम में करने को कहा है। टीचिंग और नॉन टीचिंग कॉलेज स्टाफ, हास्पिटल स्टाफ व पीजी स्टूडेंट्स के लिए यह व्यवस्था की जा रही है।

ऐसे लगेगी अटेंडेंस
सभी कॉलेजों को कम से कम तीन एड्रायड फोन या टैबलेट रखना होगा। इन पर एजीबीएएस एप इंस्टाल करना होगा। सभी स्टाफ का डाटा आधार नंबर के साथ इन पर फीड किया जाएगा। इस तरह एक बार रजिस्ट्रेशन होने के बाद ही अटेंडेंस शुरू होगी। एप के जरिए पूरा डाटा सीसीआईएम तक पहुंचेगा।

प्रदेश में आयुर्वेद कॉलेज- 19
यूनानी कॉलेज – 4
प्राकृतिक चिकित्सा कॉलेज- 3

इसलिए की व्यवस्था
– कुछ निजी कॉलेजों में सीसीआईएम के दौरे के समय किराये की फैकल्टी दिखाई जाती है। दौरा पूरा होने पर ये फैकल्टी लौट जाते हैं।
– डॉक्टर व अन्य चिकित्सकीय स्टाफ के देरी से आने की वजह से मरीजों को को परेशानी होती है।
– पीजी स्टूडेंट्स के गैर हाजिर रहने या समय पर अस्पताल नहीं पहुंचने की शिकायत मिलें रही थीं।

इनका कहना है।
अटेंडेंस के लिए यह व्यवस्था बहुत अच्छी है। इससे शिक्षा का स्तर सुधरेगा। मरीजों के लिए भी आसानी होगी। मेडिकल कॉलेजों में भी यह व्यवस्था लागू करना चाहिए।
डॉ. राकेश पाण्डेय प्रवक्ता, आयुष मेडिकल एसोसिएशन

 

NEWS IN English

CCIM will be monitored by the colleges across the country including MP, cut wages of those coming late

Bhopal. Besides Madhya Pradesh, the biggest hardship has been made on doctors and other staffs of Ayurveda, Greek, Natural Medicine and Siddha colleges across the country. To reach the hospital on time, Aadhar card-enabled GPS based biometric attendance system (AGBS) is being implemented. The late salary will be deducted. From Wednesday onwards, all the staff including doctors and doctors in these colleges will be looking after this system. The Central Council of Indian Medicine (CCIM) has asked all the colleges to enroll the staff in the Attendance System by January 30. This arrangement is being made for Teaching and Non Teaching College staff, Hospital staff and PG students.

Attendance will look like
All colleges must have at least three Android phones or tablets. These will have to install the AGBAS app. All staff will be feeds on these with data base number. After this registration, Attendance will start only once. Through the app, the entire data will reach CCIM.

Ayurveda College in the State- 19
Greek College – 4
Natural Medicine College- 3

Therefore the arrangement
– Some private colleges are shown on the CCIM tour during the rental futility. These faculty return after the tour is over.
– Due to the delay of doctor and other medical staff, patients suffer from problems.
– PG students were found to be absent or unable to reach the hospital at the time.

They have to say
This system is very good for attendance. This will improve the level of education. It will also be easy for patients. It should also be implemented in medical colleges.
Dr. Rakesh Pandey Spokesperson, AYUSH Medical Association

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.