स्वच्छ भारत मिशन योजना,शौचालयों के निर्माण में महाराष्ट्र अव्वल

Advertisements

NEWS IN HINDI

स्वच्छ भारत मिशन योजना, शौचालयों के निर्माण में महाराष्ट्र अव्वल

नई दिल्ली। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) योजना के तहत घरों में शौचालयों (टॉयलेट) के निर्माण में महाराष्ट्र अव्वल रहा है। दूसरे और तीसरे स्थान पर क्रमशः गुजरात और मध्य प्रदेश हैं। तीनों ही राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल नवंबर तक करीब 42.72 लाख घरों में शौचालयों का निर्माण किया गया, जबकि लक्ष्य 66.42 शौचालयों के निर्माण का था। स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत 2 अक्टूबर, 2014 को हुई थी ताकि 2 अक्टूबर, 2019 तक खुले में शौच, कूड़े का हाथों के जरिये निस्तारण खत्म करके शहरी कचरे का वैज्ञानिक प्रबंधन सुनिश्चित किया जा सके।

महाराष्ट्र में 6.33 घरों मेें शौचालयों का निर्माण-
पिछले साल नवंबर तक महाराष्ट्र ने 6.33 लाख घरों में शौचालयों का निर्माण, गुजरात ने 5.6 लाख और मध्य प्रदेश ने 4.93 लाख घरों में शौचालयों का निर्माण किया था। वहीं, तमिलनाडु ने 4.29 लाख, छत्तीसगढ़ ने 2.97 लाख, पश्चिम बंगाल ने 2.8 लाख, राजस्थान ने 2.64 लाख, झारखंड ने 2.29 लाख, उत्तर प्रदेश ने 2.28 लाख, आंध्र प्रदेश ने 2.03 लाख, त्रिपुरा ने 184, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह ने 384, दिल्ली ने 361, गोवा ने 471, दमन और दीव ने 671 और मेघालय ने 817 घरों में शौचालयों का निर्माण किया था।

सामुदायिक शौचालयों के निर्माण में भी महाराष्ट्र अव्वल-
खास बात यह है कि सामुदायिक शौचालयों के निर्माण में भी महाराष्ट्र अव्वल रहा है। राज्य में पिछले साल नवंबर तक करीब एक लाख सामुदायिक शौचालयों का निर्माण किया गया। जबकि मध्य प्रदेश में 22,350, उत्तर प्रदेश में 17,205, छत्तीसगढ़ में 17,083 और दिल्ली में 17,008 सामुदायिक शौचालयों का निर्माण किया गया।

 

NEWS IN English

Clean India Mission Plan, Maharashtra tops in construction of toilets

new Delhi. Maharashtra is the top producer of toilets in homes under the ambitious Clean India Mission (Urban) scheme of the Central Government. Second and third place respectively are Gujarat and Madhya Pradesh respectively. There are BJP governments in all three states. According to official figures, till last year, toilets were constructed in 42.72 lakh houses, whereas the target was 66.42 toilets. Swachh Bharat Mission was started on October 2, 2014, to ensure the scientific management of urban wastes by eliminating the elimination of defecation through open defecation, by October 2, 2019.

Construction of toilets in 6.33 houses in Maharashtra-
By November last year, Maharashtra had constructed toilets in 6.33 lakh houses, Gujarat had 5.6 lakh and Madhya Pradesh had 4.93 lakh toilets in the houses. In Tamil Nadu, Tamil Nadu has 4.29 lakh, Chhattisgarh has 2.97 lakh, West Bengal has 2.8 lakh, Rajasthan has 2.64 lakh, Jharkhand has 2.29 lakh, Uttar Pradesh has 2.28 lakh, Andhra Pradesh has 2.03 lakh, Tripura 184, Andaman and Nicobar islands 384, Delhi 361, Goa 471, Daman and Diu 671 and Meghalaya constructed toilets in 817 houses.

In the construction of community toilets,
The special thing is that Maharashtra has been the top performer in the construction of community toilets. About one lakh community toilets were constructed in the state till November last year. While 22,350 in Madhya Pradesh, 17,205 in Uttar Pradesh, 17,083 in Chhattisgarh and 17,008 community toilets in Delhi were constructed.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.