CM, 19 मंत्री, 40 MLA ने लगाई ताकत, फिर भी इसलिए हारी BJP

Advertisements

NEWS IN HINDI

CM, 19 मंत्री, 40 MLA ने लगाई ताकत, फिर भी इसलिए हारी BJP

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले सत्ता का सेमीफाइनल कहे जाने वाले कोलारस और मुंगावली विधानसभा सीटों पर पूरी ताकत झोंकने के बावजूद बीजेपी कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ में हार गई.

मुंगावली से कांग्रेस के प्रत्याशी बृजेश सिंह यादव को 70 हजार 808 वोट मिले. बीजेपी प्रत्याशी बाई साहेब से उनके जीत का अंतर महज 2123 वोट रहा. वहीं, कोलारस विधानसभा सीट पर कांग्रेस ने अच्छा प्रदर्शन किया. यहां कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र सिंह को 82 हजार 518 वोट मिले. बीजेपी प्रत्याशी देवेंद्र जैन से उनके जीत का अंतर 8,086 वोट रहा. हालांकि, भाजपा को कांग्रेस के गढ़ में वोटों की जबरदस्त बढ़त मिली है. ध्यान देने वाली बात यह है कि अप्रैल 2017 से अब तक हुए उपचुनावों में लगातार कांग्रेस की यह चौथी जीत है. इससे पहले कांग्रेस ने अटेर और चित्रकूट सीटों पर भी जीत दर्ज की थी.

बता दें कि इन दोनों विधानसभा सीटों पर बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी. यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा और 19 मंत्रियों समेत 40 से ज्यादा विधायकों ने दौरे, सभाएं कीं. राजनीतिक जानकारों की माने तो इन नतीजों ने ये साफ़ संकेत दिए हैं कि मध्यप्रदेश में अब जनता को वादों का झुनझुना देकर या जातिगत आधार पर चुनाव नहीं जीता जा सकता है. साथ ही यह भ्रम भी टूटता दिखाई दिया कि सत्ताधारी दल को उपचुनाव में आसानी से जीत मिल जाती है.

इन दोनों सीटों को जीतने के लिए बीजेपी और कांग्रेस पर ख़ासा दबाव था. दोनों ही पार्टियों ने जोड़-तोड़ की पूरी कोशिश की. आलम यह था कि मतदान से एक दिन पहले तक दोनों तरफ से 16 एफआईआर दर्ज हुईं. माना यह जा रहा है कि ये नतीजे कांग्रेस को नई ऊर्जा देने के साथ ही भाजपा में संगठनात्मक फेरबदल की संभावनाओं को न केवल मजबूत करेंगे, बल्कि यह भी तय करेंगे कि भाजपा विधानसभा चुनाव लड़ने की रणनीति में क्या बदलाव करेगी.

सबसे बड़ी बात तो यह है कि लगातार 14 साल से मध्य प्रदेश में बीजेपी सरकार विकास से जुड़े मुद्दे उठाती है. हजार करोड़ों रुपये से अधिक की घोषणाएं भी करती है. लेकिन हकीकत में घोषणाएं केवल जुमले बनकर रह जाते हैं. कहा तो यह भी जा रहा है कि बीजेपी की ये शिकस्त परोक्ष रूप से एंटी इनकंबेंसी की ओर संकेत हैं.

इसके अलावा बीजेपी की हार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय सिंह चौहान की पहली चुनावी कवायद के रूप में भी देखा जा रहा है. बता दें कि कोलारस विधानसभा उपचुनाव में कार्तिकेय किरार समाज का सम्मेलन संबोधित करने गए थे. बीजेपी को उम्मीद थी कि युवराज को अपने बीच पाकर किरार- धाकड़ समाज भाजपा के पक्ष में जमकर वोट करेंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. कोलारस में किरार बेल्ट से कांग्रेस 3706 को वोट प्राप्त हुए हैं और भाजपा को वोट 3439 मिले है.

अब आने वाले समय में मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि ज्योतिरादित्य सीएम कैंडिडेट बनकर मैदान में आएंगे या नहीं. वहीं, बीजेपी आने वाले चुनाव में क्या पैंतरा आजमाती यह देखना दिलचस्प होगा. क्योंकि केंद्र और राज्य में उनकी ही सरकार है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

CM, 19 ministers, 40 MLAs put in power, yet why BJP

Bhopal. In spite of having full force on the Kolaras and Mungawale assembly seats, which was called semi-final of power before Madhya Pradesh assembly elections, BJP lost in the seat of Congress MP Jyotiraditya Scindia.

Congress candidate from Mungawale, Brajesh Singh Yadav, gets 70 thousand 808 votes. The margin of victory by BJP candidate Bai Saheb was merely 2123 votes. At the same time, the Congress performed well in the Kolaras assembly seat. Here Congress candidate Mahendra Singh gets 82 thousand 518 votes. His victory margin with BJP candidate Devendra Jain was 8,086 votes. However, BJP has got tremendous growth in the Congress bastion. The point of note is that this is the fourth consecutive victory of the Congress in the bye-elections held since April 2017. Earlier Congress had won in Atar and Chitrakoot seats too.

Tell that BJP has given full strength to these two assembly seats. Chief Minister Shivraj Singh Chauhan, Union Minister Narendra Singh Tomar, BJP’s National Vice President Prabhat Jha and more than 40 legislators, including 19 ministers, made visits, meetings. Considering political analysts, these results have clearly indicated that in Madhya Pradesh, the people can not win the elections on the basis of rumors of the promises or on caste basis. At the same time, this illusion also broke down that the ruling party won easily by bye-election.

The BJP and the Congress had a special pressure to win these two seats. Both parties tried their best to break-up. Alam was that 16 FIRs were registered from both sides till one day before voting. It is believed that these results will not only strengthen the prospects of organizational reshuffle in the BJP, but will also decide what the BJP will make in the battle for the assembly elections.

The biggest thing is that in 14 years, the BJP government raises issues related to development in Madhya Pradesh. Thousands of millions of rupees also make announcements. But in reality the announcements remain only jamle. It is also said that this defeat of BJP is indirectly indicative of anti-incumbency.

Apart from this, BJP’s defeat is being seen as the first election exercise of Chief Minister Shivraj Singh Chauhan’s son Kartikeya Singh Chauhan. Let us know that Kolarakya went to address the conference of Kisharka Kishor Samaj in Kalaaras assembly by-election. The BJP had hoped that the Kishar-Thakad community would vote fervently in favor of the BJP, but it did not happen. Congress has got 3706 votes from Kehar belt in Kolaras and the BJP has got votes for 3439 votes.

Now in the coming time, assembly elections will be held in Madhya Pradesh. It would be interesting to see if Jyotiraditya CM will come to the ground after becoming CM candidate. At the same time, it would be interesting to see if the BJP tried to win the next election. Because they have their own government in the center and state.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.