श्रीलंका में सांप्रदायिक हिंसा, 2 की मौत, 37 घर और 46 दुकानें जलाईं

Advertisements

NEWS IN HINDI

श्रीलंका में सांप्रदायिक हिंसा, 2 की मौत, 37 घर और 46 दुकानें जलाईं

श्रीलंका के कैंडी शहर में भड़की सांप्रदायिक हिंसा के पूरे देश में फैलने के कारण वहां 7 दिनों के लिए इमरजेंसी लगा दी गई है, अभी तक इस हिंसा में 2 लोगों के मारे जाने की खबर है.

स्थानीय सरकार ने बढ़ती हिंसा पर लगाम लगाने के लिए सोमवार को देशभर में इमरजेंसी लगा दी. कैंडी में हिंसा उस समय भड़क उठी जब एक बौद्ध अनुयायी की मौत हो गई और मुस्लिम व्यापारी को आग लगा दी गई, इसके बाद वहां हिंसा भड़क उठी और धीरे-धीरे यह सांप्रदायिक हिंसा में तब्दील हो गई. स्थिति पर नियंत्रण के लिए वहां कर्फ्यू लगा दिया गया.

हिंसा के दूसरे शहरों में बढ़ते जाने के कारण सरकार ने इमरजेंसी लगा दी. हिंसा पर नियंत्रण के लिए दो दर्जन से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

इस हिंसा में मुस्लिम समुदाय से जुड़ी चीजों पर हमले किए जा रहे हैं. न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी खबर के अनुसार, कैंडी के स्थानीय विधायक हिदायथ साथथार ने बताया कि हिंसा के दौरान अब तक 4 मस्जिद, 37 घर, 46 दुकानें और 35 वाहनों को नुकसान पहुंचाया जा चुका है.

पूरे घटनाक्रम पर संसद में बोलते हुए राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने बताया कि ड्राइवर की मौत के बाद स्थानीय बौद्ध और मुस्लिम समुदाय के बड़े बुजुर्ग बातचीत के जरिए तनाव को कम करने में लगे हुए हैं. हिंसा फैलाने में बाहरी तत्वों का हाथ है. बाहर से आए लोगों ने हिंसा भड़काई और सुनियोजित तरीके से तोड़फोड़ को अंजाम दिया.

हाल के दिनों में देश में मुस्लिम विरोधी हिंसा बढ़ी है. देश की बहुसंख्यक आबादी सिंघली बौद्धों की है और वो राष्ट्रवाद को बढ़ावा दे रहे हैं.

एक हफ्ते पहले ट्रैफिक रेड लाइट पर विवाद के बाद कुछ मुस्लिम युवाओं ने एक बौद्ध युवक की पिटाई की थी और तभी से वहां तनाव बना हुआ है. इसी तरह देश के पूर्वी शहर अमपारा में मुस्लिम विरोधी हिंसा हुई थी.

अमूमन शांत कहे जाने वाले श्रीलंका में 2012 से ही सांप्रदायिक तनाव की माहौल बना हुआ है. कुछ कट्टरपंथी बौद्ध समूहों का आरोप है कि वहां जबरन धर्म परिवर्तन कराने और बौद्ध मठों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है.

2014 में कट्टरपंथी बौद्ध गुटों ने तीन मुसलमानों की हत्या कर दी थी जिसके बाद गाले में हिंसा भड़क उठी थी. 2009 में सेना के हाथों तमिल विद्रोहियों की हार के बाद से श्रीलंका का मुस्लिम समुदाय एक तरह से सियासत से दूर रहा है, लेकिन उस पर हमले बढ़े हैं.

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Communal violence in Sri Lanka, 2 killed, 37 houses and 46 shops burnt

Due to the spread of communal violence in Sri Lanka’s Kandy city, there has been an emergency for 7 days due to the spread of communal violence, so far 2 people have been killed in this violence.

Local government imposed emergency on Monday to curb rising violence. Violence in the candy erupted when a Buddhist follower died and a Muslim businessman was set on fire, after which violence broke out and gradually it turned into communal violence. Curfew was imposed on the situation to control the situation.

Due to increasing violence in other cities, the government imposed emergency. More than two dozen people have been arrested for controlling the violence.

In this violence, attacks related to Muslim community are being attacked. According to the news published in the New York Times, local residents of Kandy, Hadith Sehthar said that during the violence, 4 mosques, 37 houses, 46 shops and 35 vehicles have been damaged so far.

Speaking throughout the event, President Ranil Vikramasinghe said that after the death of the driver, the elderly people of the local Buddhist and Muslim community were engaged in reducing tension through negotiations. The external elements have the hand in spreading violence. The people who came from outside incited violence and organized demolition in a planned manner.

In recent days, anti-Muslim violence has increased in the country. The majority of the country’s population belongs to the Singhal Buddhists and they are promoting nationalism.

A week before the controversy over Traffic Red Light, some Muslim youth had beaten a Buddhist youth and since then the tension has remained there. Similarly, anti-Muslim violence took place in the eastern city Ampara.

In Sri Lanka, generally called Shanti, there has been an atmosphere of communal tension since 2012. Some fundamentalist Buddhist groups have been accused of forcibly converted to Islam and Buddhist monasteries are being harmed.

In 2014 the fundamentalist Buddhist groups had killed three Muslims, after which violence in Gale had erupted. Since the defeat of Tamil rebels in the hands of the army in 2009, the Muslim community of Sri Lanka has been away from politics in a way, but attacks on it have increased.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.