रावण से खफा हो श्रीलंका को छोड़ यहां विराजमान हो गई थी देवी दुर्गा

Advertisements

NEWS IN HINDI

रावण से खफा हो श्रीलंका को छोड़ यहां विराजमान हो गई थी देवी दुर्गा

भारत में एेसे कई मंदिर है जो अपने रहस्य को लेकर विश्वभर में प्रसिद्ध है। उन्हीं में से एक कश्मीर में श्रीनगर के तुलमुल गांव में खीर भवानी के नाम से एक देवी मंदिर विख्यात है। इस मंदिर के बारे में पौराणिक एक कहानी प्रचलित है जो इसके आकर्षण का मुख्य केंद्र है। यह श्रीनगर से 14 कि.मी की दूरी पर स्थित है। शीर भवानी का यह मंदिर माता दुर्गा को समर्पित है। आईए जानें इसके बारे में प्रचलित पौराणिक कथा के बारे में –

पौराणिक कथा
रावण से नाखुश श्रीलंका से श्रीनगर में हुई विराजमान देवी इस मंदिर की स्थापना को लेकर यहां के लोगों अनुसार पौराणिक कथा कुछ इस प्रकार है। मान्यता अनुसार रावण देवी का परम भक्‍त था और देवी खीर भवानी के मंदिर की स्‍थापना श्रीलंका में रावण ने ही की थी। लेकिन रावण की गलत आदतों से देवी रुष्‍ट हो गई और उन्‍होंने राम भक्‍त हनुमान को आदेश दिया कि वे उनकी प्रतिमा को वहां से हटा कर कहीं और स्‍थापित करें। तब पवनपुत्र हनुमान ने उनको उठा कर कश्‍मीर के तुलमुल में स्‍थापित कर दिया। तब से देवी का ये मंदिर यहां पर स्‍थापित है।

मुसीबत से पहले देवी मां देती हैं संकेत
यहां की एक और प्रचलित मान्यता यह है कि यहां पर कोई भी प्राकृतिक आपदा के आने से पहले मंदिर के कुण्ड का पानी काला पड़ जाता है और इस तरह से देवी मां अपने भक्तों को कोई भी मुसीबत आने से पहले ही संकट की सूचना दे देती हैं।

इसलिए पड़ा खीर भवानी नाम
देवी दुर्गा के इस मंदिर में देवी मां को कई नामों से पुकारा जाता है- जैसे महारज्ञा देवी़, राज्ञा देवी, रजनी देवी आदि। लेकिन यहां का सबसे प्रचलित नाम खीर भवानी है। यहां देवी मां को खीर भवानी कहने के पीछे एक अनोखा कारण यह है कि हर वसंत ऋतु पर देवी मां को खीर चढ़ाई जाती है इसलिए इनको नाम ‘खीर भवानी’ का नाम से पुकारा जाता है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Devi Durga became quarrelsome with Ravana after leaving Sri Lanka

There are many temples in India which is famous throughout the world with its mystery. One of them is a Goddess Temple named after Kheer Bhavani in Tulmul village of Srinagar in Kashmir. A mythological story about this temple is prevalent, which is the main center of its charm. It is located at a distance of 14 km from Srinagar. This temple of Sheer Bhavani is dedicated to Mother Durga. IA Learn about the legendary legend about it –

mythology
According to the people of this temple, there is a mythological story like this that is situated in Srinagar from Sri Lanka, unhappy with Ravana. According to the belief Ravana was the supreme devotee of Goddess and the temple of Goddess Kheer Bhavani was founded by Ravana in Sri Lanka. But the goddess became angry with Ravana’s wrong habits and he ordered Ram devotee Hanuman to remove his statue from there and establish somewhere else. Then Hanuman, the son of Pawanpura, raised him in the balance of Kashmir. Since then this temple of Goddess has been established here.

Mother goddess gives signs before trouble
Another popular belief here is that before the arrival of any natural calamity the water of the temple is blackened and in this way the mother of goddess informs her devotees of any crisis before coming to any trouble. .

That’s why Kheer Bhawani named
In this temple of Goddess Durga, Goddess Mother is called by many names – like Maharaja Deyi, Ragini Devi, Rajni Devi etc. But the most popular name here is Kheer Bhavani. Here is a unique reason behind calling Goddess Mother Kheer Bhavani that every Mother Mother is pudded on every spring and hence the name is called ‘Kheer Bhavani’.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.