मन की बात: पीएम मोदी ने कहा- किसान गोबर को कचरा नहीं बल्कि आय के स्त्रोत के रूप में देखें

Advertisements

NEWS IN HINDI

 मन की बात: पीएम मोदी ने कहा- किसान गोबर को कचरा नहीं बल्कि आय के स्त्रोत के रूप में देखेंप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (25 फरवरी) को रेडियो पर मन की बात की। उन्होंने भारत के महान वैज्ञानिक एवं नोबेल पुरस्कार विजेता सर सी वी रमन को याद करते हुए इस कार्यक्रम की शुरुआत की। रमन द्वारा 28 फरवरी को रमन इफेक्ट की खोज किए जाने पर ही इस दिन को विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। पीएम मोदी ने कहा कि इस देश ने कई महान वैज्ञानिकों को जन्म दिया है। उन्होंने कहा, ‘भारत के महान वैज्ञानिकों में एक तरफ महान गणितज्ञ बोधायन, ब्रह्मगुप्त, भास्कर और आर्यभट्ट की परंपरा रही है तो दूसरी तरफ चिकित्सा के क्षेत्र में सुश्रुत और चरक हमारा गौरव हैं। सर जगदीश चन्द्र बोस,हरगोविंद खुराना, सत्येन्द्र नाथ बोस जैसे वैज्ञानिक भारत के गौरव हैं।’

पीएम ने कहा, ‘भारत में मवेशियों की आबादी 30 करोड़ है और गोबर का उत्पादन प्रतिदिन लगभग 30 लाख टन है। ‘गोबर धन योजना’ के तहत ग्रामीण भारत में किसानों को प्रोत्साहित किया जाएगा कि वो गोबर और कचरे को सिर्फ कचरे के रूप में नहीं बल्कि आय के स्रोत के रूप में देखें।’ उन्होंने गोबर के उपयोग पर जोर देते हुए कहा, ‘मैं आपको आमंत्रित करता हूं क्लीन एनर्जी एंड ग्रीन जॉब्स के इस आन्दोलन के भागीदार बनें| अपने गांव में ‘वेस्ट’ को ‘वेल्थ’ में परिवर्तन करने और गोबर से गोबर-धन बनाने की दिशा में पहल करें।’

यहां पढ़ें और क्या कहा पीएम मोदी ने-

– प्रधानमंत्री ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा, ‘आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के माध्यम से किस तरह दिव्यांग भाइयों और बहनों का जीवन सुगम बनाने में मदद मिल सकती है, प्राकृतिक आपदाओं के बारे में बेहतर अनुमान लगा सकते हैं, किस तरह फ़सलों की पैदावार बढ़ने में सहायता कर सकते हैं?’

– प्राकृतिक आपदाओं को अगर छोड़ दें तो ज्यादातर दुर्घटनाएं, हमारी किसी न किसी गलती का परिणाम होती हैं। अगर हम सतर्क रहें, आवश्यक नियमों का पालन करें तो अपने जीवन की रक्षा करने के साथ-साथ बड़ी दुर्घटनाओं से समाज को बचा सकते हैं। हम सब बहुत बार रास्तों पर लिखे हुए बोर्ड पढ़ते हैं, जिनमें लिखा होता है – सतर्कता हटी-दुर्घटना घटी, एक भूल करे नुकसान-छीने खुशियाँ और मुस्कान, इतनी जल्दी न दुनिया छोड़ो-सुरक्षा से अब नाता जोड़ो, सुरक्षा से न करो कोई मस्ती-वर्ना जिंदगी होगी सस्ती।’

– छत्तीसगढ़ के रायपुर में एक अनूठा प्रयास करते हुए राज्य का पहला ‘कचरा महोत्सव’ आयोजित किया गया। रायपुर नगर निगम द्वारा आयोजित इस महोत्सव के पीछे स्वच्छता को लेकर जागरूकता थी।

– नारी शक्ति ने स्वयं को आत्मनिर्भर बनाया है। उन्होंने खुद के साथ ही देश और समाज को भी आगे बढ़ाने और एक नए मुकाम पर ले जाने का काम किया है। आखिर हमारा ‘न्यू इंडिया’ का सपना यही तो है। हम उस परंपरा का हिस्सा हैं , जहां पुरुषों की पहचान नारियों से होती थी। यशोदा-नंदन, कौशल्या-नंदन, गांधारी-पुत्र, यही पहचान होती थी किसी बेटे की।

– 8 मार्च को ‘अन्तरराष्ट्रीय महिला-दिवस’ मनाया जाता है। इस दिन देश में ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ से ऐसी महिलाओं को सत्कार भी किया जाता है जिन्होंने भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में अनुकरणीय कार्य किये हों।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करकेhttps://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Thing of mind: PM Modi said: Do not waste farmer dung as a source of income

Prime Minister Narendra Modi spoke on Sunday (25th February) on the radio. He started this program in memory of Sir SV Raman, the great scientist and Nobel laureate of India. This day is celebrated as Science Day only after Raman discovered the Raman effect on February 28. PM Modi said that this country has given birth to many great scientists. He said, “In the great scientists of India, there is a tradition of great mathematician Bodhayana, Brahmagupta, Bhaskar and Aryabhatta, on the other hand, Sushruta and Charak in the field of medicine are our pride. Scientists like Sir Jagdish Chandra Bose, Hargovind Khurana, Satyendra Nath Bose have the pride of India.

The PM said, “India’s cattle population is 300 million and dung production is around 3 million tonnes per day. Under the ‘Gobar Dhan Yojana’, farmers will be encouraged in rural India to see that dung and garbage not only as garbage but as source of income. He emphasized the use of cow dung, said, Invite me to participate in this movement of Clean Energy and Green Jobs. In your village, take initiative to change the ‘waste’ to ‘wealth’ and make dung-making from dung.

Read here and what PM Modi said-

– The Prime Minister also spoke about Artificial Intelligence. He said, “Through Artificial Intelligence (AI), how can help ease the life of the brothers and sisters, make better estimates of natural calamities, how can help to increase the yield of crops ? ‘

If you leave natural disasters, most of the accidents are the result of our mistake. If we remain vigilant, follow the necessary rules, we can save our life and save society from major accidents. We all often read boards written on the roads, which have been written – Vigilance: Hurt-accident, forget one of the loss-sneaking joys and smile; Do not leave the world so fast – Now add bonds with security, do not protect it Musta-varna life will be cheap. ‘

– In the unique effort of Raipur in Chhattisgarh, the state’s first ‘Trash Mahotsav’ was organized. Organized by Raipur Municipal Corporation, there was awareness about sanitation behind this festival.

– Women power has made themselves self-reliant. He has done the work to advance the country and society along with himself and to take it to a new position. After all, our dream of ‘New India’ is the same. We are part of the tradition where men were identified with women. Yashoda-Nandan, Kaushalya-Nandan, Gandhari-son, this identity was known to any son.

– On March 8, ‘International Women’s Day’ is celebrated. On this day, women are also felicitated with ‘Women Power Award’ which has done exemplary work in different areas.

 

Advertisements
Advertisements

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.