जानिए, पूजा के अंत में ही क्यों किया जाता है हवन

Advertisements

NEWS IN HINDI

जानिए, पूजा के अंत में ही क्यों किया जाता है हवन

अक्सर हम लोग देखते हैं कि घर में चाहे छोटी पूजा हो या कोई बड़ी, प्रत्येक के उपरांत हवन करना अवश्यक माना जाता है। लेकिन एेसा क्यों किया जाता है। इसके बारे में किसी को ज्ञान नहीं है। तो आईए आज हम आपको इसके पीछे का असल कारण व मान्यता बताते हैं कि आखिर क्यों किसी भी प्रकाराकी पूजा करने के बाद हवन या यज्ञ क्यों किया जाता है।

सृष्टि के समस्त तत्व पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु व आकाश के विभिन्न संयोजनों से बने हैं। क्योंकि मनुष्य भी इसी जगत का ही एक अंश है इसलिए मानव भी इन्हीं पांच तत्त्वों से बना है। इन तत्त्वों में से अग्नि विशेष है। जहां एक ओर अन्य सभी तत्त्व प्रदूषित हो सकते हैं, वहीं अग्नि को दूषित नहीं किया जा सकता। हमारे ऋषि अग्नि की इस विशेषता से भली भांति परिचित थे और इसीलिए हवन और दूसरे सभी वैदिक कर्मों में अग्नि का विशेष महत्त्व होता है।

हवन मात्र एक कर्मकांड नहीं बल्कि एक योगी के लिए उन दिव्य शक्तियों से वार्तालाप का माध्यम है जो इस सृष्टि को चलाती हैं। जिस प्रकार इस संसार में पृथ्वी, जल, वायु व आकाश प्रदूषित हो जाते हैं, उसी प्रकार से मानव शरीर में भी इन तत्त्वों का प्रदूषित होना संभव है। यह प्रदूषण मनुष्य को पतन अथवा विकृति की ओर धकेलता है।

मनुष्य में इन तत्त्वों के प्रदूषण का पता लगाना अति सरल है। पृथ्वी तत्त्व के दूषित होने से व्यक्ति को समाज में प्रतिष्ठित पद और भव्य जीवन शैली जैसी सुविधाएं पाने की इच्छाएं बेलगाम होने लगती हैं। जब जल तत्त्व दूषित होता है तो अप्राकृतिक काम इच्छा जागृत होने लगती है। वैदिक शास्त्र अपनी स्वाभाविक इच्छाओं का दमन करने के लिए नहीं कहता। अग्नि तत्त्व को दूषित नहीं किया जा सकता। योग और सनातन क्रिया की साधना से साधक अग्नि तत्त्व के अनुकूल स्तर बनाए रख सकता है।

वायु तत्त्व यह निश्चित करता है कि हृदय व फे़फड़े ठीक से कार्य करें। इस तरह रक्त संचार प्रणाली और श्वास प्रणाली भी सही काम करती रहती है। अंत में दूषित आकाश तत्त्व के कारण थायरायड व पैराथायरायड ग्रंथियों के रोग और श्रवण शक्ति का क्षीण होना पाया जाता है। मात्र एक हवन में ही यह क्षमता होती है कि मनुष्य के सभी दोष समाप्त हो सकें।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Know, why is it done at the end of the worship?

Often people see that it is considered necessary to have a small worship or a large, after every house. But why is it done? Nobody knows about it. So come, today we tell you the real reason and belief behind it, why, why is there a havan or a sacrifice after performing any form of worship?

All the elements of creation are made up of different combinations of earth, water, fire, air and sky. Because humans are also a part of this world, so humans are also made up of these five elements. Fire is special among these elements. Where all other elements can be polluted on the one hand, fire can not be contaminated. Our sages were well aware of this feature of fire and hence fire has special significance in havan and all other Vedic works.

Havan is not just a ritual, but a yogi is the medium of conversation with those divine powers that run this creation. Just as the earth, water, air and sky are polluted in this world, in the same way human elements are also polluted to these elements. This pollution pushes the human to decline or deformity.

It is very easy to find out the pollution of these elements in humans. Due to the contamination of the earth element, the desire for the person to get facilities like a prestigious position and a grand lifestyle in society becomes unruly. When the water element is contaminated, the unnatural desire will start to awaken. Vedic scriptures do not say to suppress their natural desires. Fire element can not be contaminated. With the practice of Yoga and Sanatan Kriya, the seeker can maintain a favorable level of fire element.

Air element determines that the heart and lung function properly. In this way, the blood circulatory system and the breathing system also work properly. In the end, due to contaminated sky nature, the disease and hearing power of thyroid and parathyroid glands are found to be impaired. Only in a havan there is this ability that all the faults of man can be eliminated.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.