एकलव्य आदर्श स्कूल विषय वार शिक्षक की कमी से जूझ रहा

Advertisements

एकलव्य आदर्श स्कूल विषय वार शिक्षक की कमी से जूझ रहा

विषयवार अतिथि शिक्षकों की भी नियुक्ति नही की गई


शाहपुर, (सचिन शुक्ला)। विकासखंड का एकलव्य आदर्श हायर सेकंडरी स्कूल इन दिनों विषय वार शिक्षको की कमी से जूझ रहा हैं। जिसका सीधा असर बच्चों की पढ़ाई पर पड़ रहा है। उच्चाधिकारियों द्वारा शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए जमीनी स्तर पर कोई प्रयास नहीं कर रहै है।

उल्लेखनीय है कि एकलव्य आदर्श स्कूल में विज्ञान संकाय, कला संकाय के शिक्षको की कमी से ना सिर्फ छात्र, छात्राओ की पढ़ाई बाधित हो रही है बल्कि अच्छे परीक्षा के परीणाम भी प्रभावित होगें।

बीते दिनों कृष्ण जन्माष्टमी पर एकलव्य होस्टल में बाहरी लोगो को होस्टल में आमंत्रित नाच गाने के चलते बालिका हॉस्टल प्रबंधक दीपा डोंगरे एवँ बालक हॉस्टल प्रबंधक इंद्रमोहन तिवारी को निलंबित किया गया था। निलंबित दीपा डोंगरे विज्ञान की व्याख्याता थी उनके हटने के बाद विज्ञान संकाय का बच्चो को अध्यन माध्यमिक शिक्षक द्वारा कराया जा रहा है। नियमानुसार स्कूल में विषय वार शिक्षक होना आवश्यक है।

इस वर्ष कक्षा 11 वी में कला संकाय विषय प्रारंभ किया गया है। जिसे कृषि संकाय एवँ अन्य विषयो के शिक्षको के द्वारा विद्यार्थियों को अध्यक्ष करवाया जा रहा है। विज्ञान संकाय को विषयवार पढ़ाने के लिये स्कूल में एक भी शिक्षक नही है। विज्ञान एवं कला विषयों के स्कूल में शिक्षक नही है। उसके बाद भी विषयवार अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति का कोई भी आदेश स्कूल प्राचार्य द्वारा अभी तक नहीं निकाला गया। स्कूल में विषय विशेषज्ञ न होने के कारण छात्रों को पढ़ाई प्रभावित होना स्वाभिक है।

विज्ञान और आर्ट जैसे विषयों के शिक्षकों के पद खाली है। स्कूल प्राचार्य द्वारा स्कूल की शालेय व्यवस्थाओं पर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है। स्कूल प्राचार्य एसके ढोनीवाल अपने गृह नगर बैतूल से शाहपुर आना जाना करते हैं प्राचार्य स्कूल लगने के समय स्कूल पहुँच जाते हैं। बच्चो की छुट्टी के बाद अपने घर बैतूल पहुँच जाते हैं। यह सिलसिला लगातार चल रहा है।

इतने बड़े आदर्श आवासीय स्कूल की जिम्मेदारी का जवाबदार कौन ?

शिक्षकों की कमी के आसरे अच्छी शिक्षा और बच्चों का सुनहार भविष्य कैसे बनेगा यह चिंता का विषय है। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए गए पत्र में स्पष्ट किया गया है कि वर्तमान में हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी स्कूलों में पद संरचना अंतर्गत कुल स्वीकृत पदों के विरुद्ध प्रत्येक विषय के लिए अधिकतम एक अतिथि शिक्षक रखे जाने का प्रावधान है।

लेकिन विद्यालय प्रबंधन विषय वार अतिथि शिक्षक की नियुक्ति नहीं कर रहे है। जबकि शासन एकलव्य आदर्श स्कूल में बच्चो की अच्छी शिक्षा के लिये करोड़ो की राशि खर्च कर रहा है। स्कूल प्राचार्य बच्चो के भविष्य को अंधकार की ओर ले जाने में धृतराष्ट्र की भूमिका अदा कर रहे हैं।

Advertisements
Advertisements

इनका कहना है

एकलव्य आदर्श स्कूल मेरे कार्यक्षेत्र के बाहर है। एकलव्य स्कूल के प्रिंसिपल का स्टेटमेंट लेना ठीक रहेगा।

एसके जैन, बीईओ, शाहपुर


विषय वार अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति की जावेगी इस माह के अंत तक विषयवार शिक्षक या अतिथि शिक्षक की नियुक्ति की जावेगी जिसकी ऐसी मैडम से बात हो गई है ।

एसके ढोनीवाल, प्राचार्य एकलव्य आदर्श स्कूल, शाहपुर


Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.