जबलपुर से इटारसी तक 80 किमी की रफ्तार से दौड़ेगा विद्युत इंजन

Advertisements

NEWS IN HINDI

जबलपुर से इटारसी तक 80 किमी की रफ्तार से दौड़ेगा विद्युत इंजन

जबलपुर। जबलपुर से पिपरिया के बीच रेल विद्युत इंजन चलाने की परमिशन कमिश्नर रेल सेफ्टी से जबलपुर मंडल को दे दी है। अब 177 किमी लंबे विद्युत रेल ट्रैक पर 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से विद्युत इंजन दौड़ सकेगा। दरअसल 17 जनवरी को को सीआरएस एके जैन ने इस रेलवे ट्रैक के विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण किया था। 18 जनवरी को पिपरिया से जबलपुर के बीच 120 किमी की रफ्तार से विद्युत इंजन दौड़ाकर भी देखा, जिसे इतनी दूर तय करने में 1 घंटे 50 मिनट का समय लगा। अब जबलपुर मंडल को इस ट्रैक पर विद्युत इंजन के साथ पैसेंजर ट्रेन दौड़ानी है, जिसकी तैयारी शुरू कर दी गई है।

जबलपुर से कटनी का काम तेज
जबलपुर से कटनी के बीच तकरीबन 80 किमी के रेलवे ट्रैक का विद्युतीकरण का काम तेज हो गया है। इसे मार्च 2018 तक खत्म करने का टारगेट दिया गया है, लेकिन मौजूदा हालत में यह कहना मुश्किल है कि यह काम तय समय पर होगा। इस ट्रैक का विद्युतीकरण का काम पूरा होने के बाद जबलपुर से दिल्ली जाने वाली ट्रेनों को भी विद्युत इंजन के साथ चलाया जाएगा। सीआरएस ने जबलपुर से पिपरिया के बीच 80 किमी की रफ्तार से विद्युत इंजन के साथ पैसेंजर ट्रेन चलाने की परमिशन दे दी है। कुछ काम शेष हैं, उन्हें पूरा कर लिया जाएगा। यह काम सीईई की देखरेख में होगा।
मनोज सिंह, डीआरएम

अब क्या होगा
– सीआरएस द्वारा बताई गई ट्रैक की सभी खामियों को दूर किया जाएगा
– इनका सीईई निरीक्षण कर रेलवे ट्रैक को ओके कर देंगे
– जबलपुर से 8 ट्रेनों को विद्युत इंजन के साथ रवाना किया जाएगा
– कटनी के विद्युत इंजन शेड से इंजन जबलपुर बुलाए जाएंगे।
– जबलपुर से जाने और आने वाली ट्रेनों को पहले चलाया जाएगा।

 

NEWS IN English

Electrical engine running at a speed of 80 km from Jabalpur to Itarsi

Jabalpur. Permission Commissioner to run Rail Electricity Engine between Jabalpur and Pipriya has been given to the Jabalpur Division from Commissioner Safety Rail Safety. Now the electric locomotive will run at a speed of 80 kmph on the 177 km long electric track. Actually, on January 17, CRS AK Jain inspected the electrification work of this railway track. On January 18, Pipriya ran between 120 km in Jabalpur and saw an electric engine running, which took 1 hour and 50 minutes to settle so far. Now Jabalpur Division has to run a passenger train on this track with an electric engine, which has started preparing.

Fast work from Jabalpur
Between Jabalpur and Katni, the electrification of about 80 km railway track has increased. It has been targeted to be completed by March 2018, but in the current condition it is difficult to say that this work will be on time. After the electrification of this track is completed, trains going from Jabalpur to Delhi will also be run with electric locomotives. CRS has granted permit to run a passenger train with electric locomotive at Jabalpur with a speed of 80 km between Pipariya. Some work is left, they will be completed. This work will be under the supervision of CEE.
Manoj Singh, DRM

what will happen now
– All the loopholes tracked by the CRS will be removed
– Inspecting the CEE will fix the railway track
– 8 trains from Jabalpur will be flagged with electric locomotives
– The engines from Katni’s electric engine shed will be called Jabalpur.
– Jabalpur and the upcoming trains will be run first.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.