राजपूत समाज सहित हिन्दू संगठनों द्वारा फिल्म पद्मावत के विरोध में रैली निकालकर नारेबाजी करते हुए पोस्टर फाड़े,पुतला जलाया

Advertisements

NEWS IN HINDI

राजपूत समाज सहित हिन्दू संगठनों द्वारा फिल्म पद्मावत के विरोध में रैली निकालकर नारेबाजी करते हुए पोस्टर फाड़े,पुतला जलाया

जय मालवीय
मुलताई। नगर में राजपूत समाज सहित हिन्दू संगठनों द्वारा फिल्म पद्मावत का विरोध करते हुए छविगृह के सामने प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने फिल्म के पोस्टर फाड़ते हुए निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला दहन भी किया। पुलिस मुस्तैदी से कार्यकर्ताओं पर नजर रखे हुए थी, जिससे प्रदर्शन उग्र नहीं हुआ। गुरुवार दोपहर बजरंगदल, आरएसएस, शिवसेना सहित अन्य हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ता भगवा ध्वजाएं लेकर फव्वारा चौक पर एकत्रित हुए जहां से रैली निकालकर कार्यकर्ताओं द्वारा भंसाली मुर्दाबाद तथा प्रदर्शन बंद करो के नारे लगाए गए। रैली नगर के प्रमुख मार्गों से होकर गुजरी जिसके बाद स्टेशन रोड स्थित कृष्णा छविगृह पहुंची, जहॉ फिल्म का प्रदर्शन किया जाना था। कार्यकर्ताओं ने फिल्म के पोस्टर फाड़कर फिल्म नहीं दिखाने की मांग की गई इस दौरान भंसाली का पुतला भी फूंका गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए थाना प्रभारी सतीष अंधवान सहित पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा। बजरंगदल के गगन साहू, महेंद्र साहू सहित अन्य कार्यकर्ताओं ने बताया कि वे नगर में गुरुवार से प्रदर्शित होने जा रही पद्मावती फिल्म के प्रदर्शन का विरोध कर रहे हैं, क्योंकि फिल्म में वीरांगना रानी पद्मावती का गलत चरित्र चित्रण किया गया है। किशोरसिंह परिहार ने बताया कि फिल्म से राजपूत समाज सहित पूरे हिन्दू समाज की भावनाएॅ आहत हुई है। इसके लिए फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला फूंका गया। कृष्णा छविगृह के संचालक हनी भार्गव ने कार्यकर्ताओं को बताया कि फिल्म का फिलहाल प्रदर्शन नहीं किया जा रहा है। एसोसिएशन से चर्चा के उपरांत ही फिल्म का प्रदर्शन होगा।

 

NEWS IN English

Hindu organizations, including Rajput society, took out a rally in protest against the film Padmavat, slogan posters, lit the effigy

Jai Malavi
Multatai Hindu organizations including Rajput society in the city protested against Padmavat and displayed in front of the image house. The workers also burnt effigies of director Sanjay Leela Bhansali, burning the posters of the film. The police was keeping an eye on the workers with promptness, so the demonstration was not furious. On Thursday afternoon, activists of Bajrang Dal, RSS, Shiv Sena and other Hindu organizations gathered at the Fawwara Chowk, with the saffron flag from where the slogans were organized by the workers to stop Bhansali Mudabad and the demonstration. Rally passed through the main roads of the city, after which the Krishna Image Gallery located at Station Road reached where the film was to be performed. Workers demanded not to show the film by firing the poster of the film, during which, the effigy of Bhansali was also flown. Given the seriousness of the case, the police force, along with the station officer in charge Satish Bhadavan, was present on the spot. Other activists, including Gagan Sahu, Mahendra Sahu of Bajrang Dal, told that they are opposing the performance of the Padmavati film going to be released from the city on Thursday, because the film depicts the wrong character of Veerangana Rani Padmavati. Kishor Singh Parihar told that the film has hurt the feelings of the entire Hindu society, including Rajput society. For this, the effigy of director Sanjay Leela Bhansali was flown. Honey Bhargava, director of the Krishna Image Gallery told the workers that the film is not currently being shown. After the discussion with the association, the film will be displayed.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.