बैतूल जीएम संदेह के घेरे में,उद्योग लगाने प्लाट आवंटन में धांधली की सात दिन में होगी जांच

Advertisements

NEWS IN HINDI

बैतूल जीएम संदेह के घेरे में,उद्योग लगाने प्लाट आवंटन में धांधली की सात दिन में होगी जांच

बैतूल। जिले के औद्योगिक क्षेत्र में चहेतों को नए उद्योग लगाने के लिए प्लाट आवंटित करने की गई गड़बड़ी की जांच करने के लिए विभागीय स्तर से कमेटी का गठन कर दिया गया है। कमेटी को 7 दिन में जांच पूरी कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के आदेश उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव पीएल कांताराव ने दिए हैं। प्लाट आवंटन की प्रक्रिया में साजिश रचते हुए चहेतों को लाभ पहुंचाने के संबंध में विधायक हेमंत खंडेलवाल के साथ पहुंचे उद्यमियों ने प्रमुख सचिव पीएल कांताराव से मुलाकात की और उन्हें सारे दस्तावेज उपलब्ध कराए हैं। उद्यमियों ने प्रमुख सचिव को बताया कि प्लाटों की आवंटन प्रक्रिया में उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक द्वारा अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए प्रीमियम राशि जमा करने के लिए ई पेमेंट की जानकारी दी गई जबकि अन्य के लिए सायबर ट्रेजरी हेड में राशि जमा करने की सूचना कार्यालय में चस्पा कर दी गई थी। इसके चलते बैतूल में 45 उद्यमियों के द्वारा सायबर ट्रेजरी में आवेदन शुल्क के साथ 25 प्रतिशत प्रीमियम राश जमा कर दी गई। ऐन वक्त पर यह बताया गया कि भुगतान तो सायबर ट्रेजरी के माध्यम से किया जाना था। इसके चलते अधिकांश लोगों के आवेदन देरी से जमा हुए और चहेतों ने प्रक्रिया प्रारंभ होते ही आवेदन जमा कर पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर लाभ हासिल कर लिया। विधायक के साथ पहुंचे उद्यमी विनय शंकर पाठक ने शिकायत में आरोप लगाया है कि जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक द्वारा आम जनता को भ्रामक जानकारी देकर अपने चहेतों को प्लाट आवंटित करने की साजिश रची गई है। विधायक के साथ पहुंचे उद्यमियों की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए प्रमुख सचिव ने विभागीय स्तर पर जांच कमेटी का गठन कर 7 दिन के भीतर प्रतिवेदन मंगाने का भरोसा दिलाया है। प्लाट आवंटन की जांच के दौरान यदि गड़बड़ी सामने आती है तो पूरी प्रक्रिया को निरस्त करते हुए दोबारा आवंटन करने के लिए भी आश्वस्त किया है।

 

NEWS IN English

In the circle of Betul GM suspicion, rigging in allotment of industrial plots will be probed in seven days

Betul In the industrial area of ​​the district, a committee has been constituted from the departmental level to examine the disturbances of allotting the plot to establish new industries for the girl. The order has been given to the committee to complete the investigation in 7 days and the Principal Secretary, Industries Department, PL Kantarao has given the order. In connection with the development of plots in plot allotment, the entrepreneurs who arrived with MLA Hemant Khandelwal met with principal secretary PL Kantarao and provided them all the documents. Entrepreneurs informed the principal secretary that in the process of allotment of plots, the general manager of the industry center informed about e-payment for depositing the premium amount for the benefit of their wards whereas for others the information regarding depositing the amount in the cyber treasury head Had been chipped in. In this, 25 percent premium amount was deposited with the application fee in Cyber ​​Treasury by 45 entrepreneurs in Betul. At a time it was reported that the payment was to be done through cyber treasury. This led to the delay of the application of most of the people and the beneficiaries got the benefit on first-come-first-served basis by depositing the application as soon as the process started. Entrepreneur Vinay Shankar Pathak, who came with the MLA, has alleged in the complaint that the General Manager of the District Industry Center has been misleading the public to plot the plot to allot their wards. Taking seriously the complaints of entrepreneurs who arrived with the MLA, the Chief Secretary has given the assurance of lodging the report within 7 days by forming the inquiry committee at the departmental level. If the disturbances are encountered during the investigation of the plot allocation, then the entire process has been canceled and also convinced to re-allocate.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.