रूस से S-400 मिसाइल खरीदने की तैयारी में भारत, बढ़ेंगी चीन की मुश्किलें

Advertisements

NEWS IN HINDI

रूस से S-400 मिसाइल खरीदने की तैयारी में भारत, बढ़ेंगी चीन की मुश्किलें

नई दिल्ली: रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की आगामी रूस यात्रा के दौरान एस-400 ट्रायम्फ वायु रक्षा प्रक्षेपास्त्र प्रणाली की खरीद का समझौता निपटाने की कोशिश की जा सकती है। यह जानकारी यहां आधिकारिक सूत्रों ने दी। अनुमानित 40,000 करोड़ रुपए का यह सौदा मुख्य रूप से कीमत को लेकर अटका हुआ है। सूत्रों के अनुसार भारत चाहेगा कि रक्षा मंत्री निर्मला की यात्रा में इसे निपटा लिया जाए। सूत्रों के मुताबिक वे छह सप्ताह के अंदर मास्को की यात्रा पर जा सकती हैं। आकाश में लक्ष्यों को भेदने वाले एस-400 ट्रायम्फ प्रक्षेपास्त्रों की मारक क्षमता 400 किलोमीटर है। इसे रूस की ऐसी सबसे समुन्न्त प्रणाली माना जा रहा।

चीन से जुड़ी करीब 4000 किलोमीटर लंबी सीमा पर अपनी सैन्य तैयारियों को मजबूत करने की कवायदों के बीच भारत अपनी वायु सीमाओं की रक्षा के लिए इसे लेना चाहता है। चीन ने इस प्रणाली के लिए रूस से 2014 में एक खरीद समझौता किया था और उसे इसी आपूर्ति शुरू भी हो गई है। पर यह पता नहीं है कि वह कितने प्रक्षेपास्त्र खरीद रहा है। यहां सूत्रों ने कहा, ‘निर्मला की मास्को यात्रा में एस-400 के सौदे को नक्की करना एक बड़ा विषय होगा। यह प्रणाली वहां की अलमाझ-एंटे कंपनी बनाती है और यह 2007 से रुसी सेना में शामिल है। भारत इसके बारे में डेढ़ वर्ष से अधिक समय से बात कर रहा है और कम से कम पांच प्रणालियां खरीदना चाहता है। यह प्रणाली तीन अलग अलग प्रकार के प्रक्षेपास्त्र दाग सकती है। इस तरह यह वायु सुरक्षा की एक अलग अलग परत जैसा तैयार करती है। सूत्रों ने कहा कि रुस के साथ पांचवी पीढ़ी के विमानों के सौदे के बारे में कोई फैसला नहीं किया गया है क्योंकि इसकी लागत बहुत ऊंची है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

India will be ready to buy S-400 missile from Russia, the problems of China

New Delhi: During the forthcoming Russia visit of Defense Minister Nirmala Sitharaman, efforts can be made to settle the settlement of purchase of the S-400 Triumph Air Defense missile system. This information was given by official sources here. The estimated Rs 40,000 crore deal is mainly stuck with the price tag. According to sources, India would want to be dealt with in the visit of Defense Minister Nirmala. According to sources, they can go on a trip to Moscow within six weeks. The 400-kilometer firepower of the S-400 Triumph missiles, which breaks the targets in the sky, is 400 km. This is considered to be Russia’s most equitable system.

India wants to take it to protect its air boundaries, in order to strengthen its military preparedness on the 4,000-km-long border with China. China had made a purchase agreement in 2014 from Russia for this system, and this supply has already begun. But it is not known how many missiles he is buying. Sources here said, ‘Nirmala’s journey to Moscow will certainly be a big topic to fix the S-400 deal. This system creates an almat-ante company there and it is included in the Russian army since 2007. India has been talking about this for more than one and a half years and wants to buy at least five systems. This system can blast three different types of missiles. In this way it prepares a different layer of air protection. Sources said that no decision has been taken regarding the deal of fifth-generation aircraft with Russia because its cost is very high.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.