श्रीश्री रविशंकर बोले- अयोध्या विवाद नहीं सुलझा तो सीरिया बन जाएगा भारत

Advertisements

NEWS IN HINDI

श्रीश्री रविशंकर बोले- अयोध्या विवाद नहीं सुलझा तो सीरिया बन जाएगा भारत

नई दिल्ली। कोर्ट के बाहर अयोध्या विवाद को सुलझाने की कोशिशों में जुटे आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने एक बार फिर इस मामले पर बड़ा बयान दे दिया है, उनका कहना है कि विवाद नहीं सुलझा तो देश सीरिया बन जाएगा.

ऑर्ट ऑफ लिविंग के प्रमुख श्री श्री रविशंकर पहले भी अयोध्या विवाद को कोर्ट के बाहर ही सुलझाने की वकालत करते रहे हैं और सोमवार को उन्होंने फिर इसी बात पर जोर दिया कि अयोध्या में राममंदिर मुद्दे को कोर्ट से बाहर ही सुलझाया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘यह मामला नहीं सुलझा तो देश सीरिया बन जाएगा. अयोध्या मुस्लिमों का धार्मिक स्थल नहीं है. उन्हें इस धार्मिक स्थल पर अपना दावा छोड़ कर मिसाल पेश करनी चाहिए.’

उन्होंने कहा कि फैसला कोर्ट से आया तो भी कोई राजी नहीं होगा. अगर फैसला कोर्ट से होगा तो किसी एक पक्ष को हार स्वीकार करनी पड़ेगी. ऐसे हालात में हारा हुआ पक्ष अभी तो मान जाएगा, लेकिन कुछ समय बाद फिर बवाल शुरू होगा. जो समाज के लिए अच्छा नहीं होगा.

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कुछ लोग उनके प्रयास की आलोचना कर रहे हैं क्योंकि वो विवाद को बढ़ाना चाहते हैं. मंदिर स्थल पर अस्पताल बनाने का सुझाव बेवकूफी भरा है. और भगवान राम को किसी दूसरे स्थान पर पैदा नहीं कराया जा सकता.

उन्होंने कहा कि इस्लाम विवादित जमीन पर इबाबत करने की इजाजत नहीं देता.
श्रीश्री रविशंकर ने मौलाना सलमान नदवी का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें इस प्रकरण पर किसी भी तरह से पैसे का ऑफर नहीं दिया गया है. यह वही नदवी हैं जिन्होंने कोर्ट से बाहर सुलह समझौते का समर्थन किया था, जिनके सुझाव को मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड ने खारिज करते हुए बोर्ड से बाहर ही कर दिया.

दूसरी ओर, 8 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या विवाद की सुनवाई हुई थी. कोर्ट ने सभी पक्षों को दो हफ्ते के अंदर मामले से जुड़े कागजात लाने को कहा था. मामले की अगली सुनवाई 14 मार्च को होगी. सुप्रीम कोर्ट ने साफतौर पर निर्देश दिया कि वह इस मामले की सुनवाई एक जमीनी विवाद के तौर पर ही करेंगे, किसी भी धार्मिक भावना और राजनीतिक दबाव में सुनवाई को नहीं सुना जाएगा.

हालांकि अयोध्या विवाद पर समझौते का नया फॉर्मूला सुझाने वाले मौलाना नदवी के सुर बदल गए हैं. मौलाना नदवी ने अब अपना रुख बदलते हुए विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करने की वकालत की है. जबकि पहले वो आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर के साथ मिलकर कोर्ट के बाहर मसले का हल तलाशने की बात कर रहे थे.

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Sri Sri Ravi Shankar said: India will become Syria if Ayodhya dispute is not settled.

new Delhi. The spiritual guru Sri Sri Ravi Shankar, once again in his efforts to solve the Ayodhya dispute outside the court, has once again made a big statement on this matter, he says that if the dispute is not settled then the country will become Syria.

Mr. Sri Ravi Shankar, Head of the Art of Living, has also been advocating to settle the dispute outside Ayodhya courts, and on Monday he again emphasized that the Ram temple issue in Ayodhya should be resolved outside the court.

He said, “If this matter is not settled then the country will become Syria.” Ayodhya is not a religious place of Muslims. He should present a precedent by leaving his claim at this religious place. ‘

He said that even if the decision came from the court, nobody would agree. If the decision is made by the court, then one party will have to accept defeat. In such circumstances, the lost side will still agree, but after some time the fight will begin again. Which will not be good for the society.

He also said that some people are criticizing their efforts because they want to increase the dispute. The idea of ​​making a hospital at the temple site is stupid. And Lord Rama can not be created in any other place.

He said that Islam does not allow it to be done on the disputed land.
Shree Shree Ravishankar defended Maulana Salman Nadvi and said that he has not been offered any kind of money on this episode. This is the same river that supported the settlement agreement outside the court, whose suggestions were dismissed by the Muslim Personal Law Board, out of the board.

On the other hand, on February 8, the Supreme Court had heard the Ayodhya dispute. The court had asked all the parties to bring the documents related to the matter within two weeks. The next hearing of the case will be on March 14. The Supreme Court has clearly instructed that he will hear the case only as a ground dispute, no religious sentiment and political pressure will not be heard in the hearing.

Although the tone of Maulana Nadvi, who suggested the new formula for the agreement on the Ayodhya dispute, has changed. Maulana Nadvi has now advocated waiting for the Supreme Court’s decision on the dispute while changing its stand. While first he was talking with the spiritual guru, Sri Sri Ravi Shankar, he was talking about finding a solution to the issue outside the court.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.