जयपुर : केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बेबाक बोल गांधीजी को जोड़ा भांगड़ा से

Advertisements

NEWS IN HINDI

जयपुर : केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बेबाक बोल गांधीजी को जोड़ा भांगड़ा से

जयपुर। अपने विवादित और बेबाक बयानों से सुर्खियों में रहने वाले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को पदमावत विवाद के बीच गांधीजी याद आ गए और उन्होने गांधीजी को लेकर एक बेबाक टिप्पणी कर डाली। उन्होने कहा कि ” देश में अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर क्या कोई भी गांधी जी को भांगड़ा या कथक करते दिखा सकता है। ” उन्होंने यह बयान बीकानेर में दिया। वह स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्र्वविद्यालय के परीक्षा भवन का उद्घाटन करने शनिवार को बीकानेर पहुंचे थे।

मीडिया द्वारा पद्मावत फिल्म को लेकर पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि हमेशा से ही हिंदू धर्म को फिल्मों में निशाने पर लिया जाता है। उन्होंने पूछा कि फिल्मकार अन्य धर्मों को लेकर इस तरह की कोई विवादित फिल्म क्यों नहीं बनाते।

फिल्म को बैन करने की मांग का समर्थन करते हुए उन्होने कहा कि मुझे दुख है कि करणी सेना ने इस मुद्दे को केवल राजपूत समाज से जोड़कर रखा। यदि वो इसे समस्त हिंदू समाज से जोड़कर फिल्म को बैन कराने की मांग करते तो उनके आंदोलन को और ज्यादा मजबूती मिलती।

सिंह ने कहा कि रानी पद्मिनी एक वीरांगना थीं और फिल्म में उन्हें डांस करते हुए दिखाया गया है जो सरासर गलत है। उन्होनें कहा कि अपने देवी-देवताओं और इतिहास पुरुषों का अपमान अब हम नहीं सहेंगे।

 

NEWS IN English

Jaipur: Union Minister Giriraj Singh’s absurd speech added Gandhiji to Bhangra

Jaipur. Gandhiji remembered the mediatory controversy between Union Minister Giriraj Singh, who was in limelight with his controversial and unsubstantiated statements, and made an unsubstantiated comment about Gandhiji. He said that “in the name of freedom of expression can anybody show Gandhiji a Bhangra or a Kathak”. He gave this statement in Bikaner. He reached Bikaner on Saturday to inaugurate Swami Keshvanand Rajasthan Agricultural University’s examination hall.

Responding to the questions asked by the media about the Padmavat film, the Hindu religion is always taken aimed at targets in films. He asked why the filmmakers do not make such a controversial film about other religions.

Supporting the demand to ban the film, he said that I am sorry that the Karna army kept this issue connected only with Rajput society. If he wanted to bind the movie by connecting it with all Hindu society, his movement would get more strength.

Singh said that Rani Padmini was a Veeranganga and she was shown dancing in the film which is utterly wrong. He said that we will not tolerate the humiliation of our goddesses and history men.

Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.