राष्ट्रसेवा करने का सशक्त मंच है जन परिषद : हेमा बैजल

Advertisements

राष्ट्रसेवा करने का सशक्त मंच है जन परिषद : हेमा बैजल

रचनात्मक कार्यों से समाज को दिशा दें जन परिषद के सदस्य : रामजी श्रीवास्तव

घोड़ाडोंगरी चैप्टर का स्थापना समारोह सम्पन्न


घोड़ाडोंगरी। प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन में समाज और राष्ट्र हित में कुछ ना कुछ सेवा कार्य करते रहना चाहिए। इन कार्यों को करने का एक सशक्त मंच “जन परिषद” है। जिसके माध्यम से हम समाज सेवा के कार्यों को नया आयाम दे सकते हैं। यह उद्गार यूनिवर्सल टाइटेनिक ब्यूटी, मिसेस दिल्ली एनसीआर,एडमिरा मिसेस आगरा, मिसेज इंडिया के खिताब जीत चुकी सुश्री हेमा बैजल ने जन परिषद के घोड़ाडोंगरी चैप्टर के स्थापना समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने इस अवसर पर घोड़ाडोंगरी चैप्टर के सभी पदाधिकारियों एवं सदस्यों को नए दायित्व हेतु शुभकामनाएं भी दी।

इस अवसर पर जन परिषद के संयोजक रामजी श्रीवास्तव, प्रांतीय सचिव नितिन श्रीवास्तव, पूर्व संसदीय सचिव रामजीलाल उइके, एसडीओपी महेंद्र सिंह चौहान, तहसीलदार अशोक डेहरिया, प्रख्यात वैद्यराज बाबूलाल भगत, साहित्यकार संतोष जैन, मॉडल स्कूल के प्रिंसिपल विवेक तिवारी, जन परिषद घोड़ाडोंगरी चैप्टर के अध्यक्ष विशाल बत्रा, महासचिव विकास अग्रवाल, उपाध्यक्ष राजेश महतो-दीपक उईके आदि भी मंचासीन रहे।

स्थापना समारोह को संबोधित करते हुए जन परिषद के संयोजक रामजी श्रीवास्तव ने कहा कि जन परिषद के सदस्य रचनात्मक कार्य करते हुए समाज को नई दिशा दे सकते हैं। उन्होंने संस्था के बारे में बताते हुए कहा कि 1989 में जन परिषद की स्थापना के बाद से अब तक देश में 167 और विदेशों में जन परिषद के 5 चैप्टर शुरू हो चुके हैं।

आगामी दिनों में हमारा लक्ष्य देश में कुल 250 चैप्टर और विदेशों में  कुल 20 चैप्टर आरंभ करने का है। हम जन परिषद के चैप्टर के माध्यम से समाज कार्यों का नया अध्याय लिखने का प्रयास कर रहे हैं। पूर्व संसदीय सचिव रामजीलाल उइके ने अपने शुभकामना संदेश में घोड़ाडोंगरी चैप्टर के सदस्यों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि मैं मानता हूं कि आपके द्वारा किए जाने वाले कार्यों से नई ऊर्जा आएगी।

एसडीओपी महेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि जन परिषद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्य संस्था है जिसका नया चैप्टर घोड़ाडोंगरी में आरंभ होना क्षेत्र के लिए गौरव की बात है। तहसीलदार अशोक कुमार डेहरिया ने अपने संबोधन में जन परिषद के कार्यों को खूब सराहा और उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं व्यक्त की। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित अतिथियों को घोड़ाडोंगरी चैप्टर के पदाधिकारियों द्वारा स्थापना समारोह के स्मृति चिन्ह भेंट किए गए। समारोह का संचालन घोड़ाडोंगरी चैप्टर के उपाध्यक्ष दीपक उईके एवं आभार प्रदर्शन महासचिव विकास अग्रवाल द्वारा किया गया।

इस अवसर पर घोड़ाडोंगरी चैप्टर के पदाधिकारी विकास अग्रवाल,  राजेश महतो, दीपक उइके, डॉ दीपक मालवीय, आशीष वागद्रे, अरविंदर पोपली, विनोद पातरिया, संजू साहू, सूरज अतुलकर, आकाश कुदारे, पंकज नागवंशी, आदित्य अग्रवाल, प्रवीण अग्रवाल, सचिन अग्रवाल, रमन खनूजा, आशीष यादव, नितेश राठौर, यशवंत जाटव,  निर्मल सोलंकी, इंदल यादव, गंगाप्रसाद यादव, बिजालाल धुर्वे, महंगी धुर्वे, गुल पोपली, बंटू मालवीय सहित अन्य सदस्य एव आमंत्रित अतिथि मौजूद थे।

संस्था की कार्यप्रणाली पर आधारित वीडियो का प्रदर्शन किया

घोड़ाडोंगरी में कार्यक्रम के आरंभ में जन परिषद के कार्यों पर आधारित वीडियो क्लिपिंग्स का प्रोजेक्टर के माध्यम से प्रदर्शन किया गया। वीडियो देखकर कार्यक्रम में उपस्थित प्रतिभागियों ने जन परिषद के अभी तक के क्रियाकलापों की जानकारी प्राप्त की और करतल ध्वनि से जन परिषद के कार्यों को सराहा।

बाबूलाल भगत, गुरुजी, संतोष जैन और प्राचार्य तिवारी का सम्मान किया

जन परिषद के घोड़ाडोंगरी में आयोजित समारोह के दौरान संस्था की ओर से विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाली हस्तियों का सम्मान भी किया गया। इस श्रंखला में आयुर्वेदिक चिकित्सा के क्षेत्र में पिछले 40 वर्षों से कैंसर रोगियों का जड़ी बूटियों से निशुल्क उपचार करने वाले कान्हावाडी के प्रसिद्ध वैद्यराज बाबूलाल भगत का संस्था की ओर से सम्मान किया गया। इसी श्रंखला में राजनीति के क्षेत्र में पिछले 42 वर्षों से घोड़ाडोंगरी क्षेत्र में सेवा कर रहे पूर्व संसदीय सचिव रामजीलाल उइके, साहित्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे प्रख्यात शायर संतोष जैन, शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी स्कूलों की तस्वीर बदलने में जुटे मॉडल स्कूल के प्राचार्य विवेक तिवारी को मुख्य अतिथि मिसेज इंडिया हेमा बैजल, जन परिषद के संयोजक रामजी श्रीवास्तव द्वारा सम्मान पत्र और स्मृति चिन्ह भेंट कर उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर सम्मानित शायर संतोष जैन ने अपना गजल संग्रह संस्था के संयोजक रामजी श्रीवास्तव को भेंट किया।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.