जाने क्यों गूगल ने 7 लाख से ज्यादा एप्स को गूगल प्ले स्टोर से हटाया

Advertisements

NEWS IN HINDI

जाने क्यों गूगल ने 7 लाख से ज्यादा एप्स को गूगल प्ले स्टोर से हटाया

टेक्नोलॉजी। गूगल ने एंड्रॉयड यूजर्स को वायरस या फोन को नुक्सान पहुंचाने वाली एप्स से बचने के लिए कई सेफगार्ड बनाए हैं। कंपनी के अनुसार- एंड्रॉयड यूजर्स को इस तरह की एप्स से बचाने के लिए साल 2017 में 7 लाख से ज्यादा एप्स को गूगल प्ले स्टोर से हटाया गया है। 2016 के मुकाबले यह आंकड़ां 70 फीसद ज्यादा है।

गूगल प्ले के प्रोडक्ट मैनेजर एंड्रू ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा- ” न ही सिर्फ हमने 2017 में इस तरह की बुरी एप्स को ज्यादा तादात में हटाया। साथ ही हम ऐसी एप्स को पहले के मुकाबले जल्दी ढूंढ पाएं और उसके लिए जल्दी कार्यवाही भी कर पाए। अपमानजनक सामग्री के साथ आई 99 फीसद एप्स को किसी के इनस्टॉल करने से पहले ही ढूंढ कर, उसका निवारण भी कर दिया गया। ” गूगल ने अपनी इस सफलता का श्रेय नई मशीन लर्निंग मॉडल्स और तकनीक को दिया है।

कॉपीकैट्स एप्स अब भी हैं बड़ी समस्या
कॉपीकैट्स एप्स को मैं एप्स की ही तरह डिजाइन किया जाता है। यही कारण है की यूजर्स कई बार इस मामले में देखा खा जाते हैं की असली एप कौन-सी है? यह यूजर्स की डिवाइस में एंट्री लेने का एक पॉपुलर तरीका भी है। गूगल ने पिछले साल इस तरह की तकरीबन मिलियन एप्स को हटाया है। इसी के साथ कंपनी ने यह भी बताया की हजारों की संख्या में गलत कंटेंट वाली एप्स को भी प्ले स्टोर से हटाया गया है। मशीन लर्निंग ने इस काम में बहुत सहायता की है।

गूगल प्ले प्रोटेक्ट करता है मदद
गूगल प्ले प्रोटेक्ट किसी भी तरह की गलत एक्टिविटी पर नजर रखने के लिए एप्स को स्कैन करता है। गूगल ने पिछले साल गूगल प्ले प्रोटेक्ट में अपनी सारी मालवेयर स्कैनिंग और डिटेक्शन तकनीक एड कर दी थी। एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम फोन में इनस्टॉल एप्स की अपने आप स्कैनिंग करता है और कसी भी तरह की संशा की खोज करता है। यूजर्स मैन्युली भी अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स में अपडेट सेक्शन में स्कैनिंग शुरू कर सकते हैं।

NEWS IN ENGLISH

Know why Google removed more than 7 million apps from Google Play Store

Technology Google has created many safeguards to prevent Android users from infecting a virus or a phone. According to the company – more than 7 lakh apps have been removed from Google Play Store in the year 2017 to protect Android users from such apps. This is 70 percent more than the 2016 figures.

Google Play Product Manager Andrew wrote in a blog post: “Not only did we remove this kind of bad appetite in 2017. At the same time, we can find such applications faster than earlier and also take quick action for them. It was also redressed by finding out the 99% eps that came with abusive content before anyone could install it. “Google credited this success to new machine learning models and technology.

Copycats are still big problems
The copycat’s app is designed to be similar to an app. This is the reason that users are often seen in this case, what is the real app? It is also a popular way to get entry in users’ devices. Google has removed about a million apps like this last year. In addition, the company also said that the number of thousands of incorrect content apps have also been removed from the Play Store. Machine learning has helped a lot in this work.

Google Play Protects Help
Google Play Protect scans the app to track any type of wrong activity. Google had added all its malware scanning and detection techniques to Google Play Protect last year. The Android operating system automatically scans the installed app in the phone and searches for any kind of signature. Users can also start scanning in the update section of their Android smartphones.

Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.