चारा घोटाले में लालू हुए हाजिर, सहायक ने दी गवाही

Advertisements

NEWS IN HINDI

चारा घोटाले में लालू हुए हाजिर, सहायक ने दी गवाही

रांची। चारा घोटाले में डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी से संबंधित मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव हाजिर हुए। सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश प्रदीप कुमार की अदालत में लालू प्रसाद, डॉ. आरके राणा, जगदीश शर्मा सहित अन्य आरोपियों को बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल से लाकर पेश किया गया। मामले में सीबीआइ की ओर से जिला परिवहन कार्यालय रांची के सहायक राजेश कुमार वर्मा की गवाही दर्ज की गई। सीबीआइ के वरीय विशेष लोक अभियोजक बीएमपी सिंह ने बताया कि राजेश कुमार वर्मा ने गवाही के दौरान वाहन निबंधन के सात रजिस्टर की अभिप्रमाणित प्रतियों को कोर्ट में दाखिल किया। साथ ही उसे सत्यापित किया। उन्होंने सभी पन्नों पर तत्कालीन जिला परिवहन पदाधिकारी योगेंद्र पासवान के हस्ताक्षर की पहचान की। वाहन निबंधन रजिस्टर में व्यवसायिक व निजी वाहनों की इंट्री है।

उल्लेखनीय है कि चारा घोटाला मामला उजागर होने के बाद सीबीआइ की जांच में यह बात सामने आई थी कि पशुपालन विभाग में मवेशियों के साथ-साथ पशु के लिए खाद्य पदार्थ, दवा आदि सामाग्री की ढुलाई स्कूटर, मोटरसाइकिल व कार से दिखाई गई था।

सीबीआइ की जांच में वाहनों के जो नंबर निकले थे वह स्कूटर, मोटरसाइकिल व कार के थे। इसी के तहत जिला परिवहन अधिकारी के सहायक का बयान अदालत में दर्ज कराया गया।

सीबीआइ न्यायालय में यह बात सिद्ध करने की कोशिश करेगी कि पशुपालन विभाग में व्यावसायिक वाहनों के बदले निजी वाहन, स्कूटर, मोटरसाइकिल, कार आदि से पशु व चारा आदि की ढुलाई की गई है।

डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ रुपये अवैध निकासी को लेकर सीबीआइ ने चारा घोटाला कांड संख्या आरसी 47ए/96 के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। मामले में सीबीआइ की ओर से 799 गवाह बनाए गए हैं। इसमें 451वें गवाह के रूप में राजेश कुमार वर्मा उपस्थित हुए।

 

NEWS IN English

Lalu Prasad in fodder scam, assistant witness given

Ranchi Former Bihar Chief Minister Lalu Prasad appeared in the fodder scam case related to illegal withdrawal from Donda Treasury. In the court of special CBI Judge Pradeep Kumar, Lalu Prasad, Dr. RK Rana, Jagdish Sharma and other accused were brought to Birsa Munda Central Jail. In the case, the testimony of Rajesh Kumar Verma, the assistant of the District Transport Office Ranchi, was recorded by CBI on behalf of the CBI. Senior Special Public Prosecutor BMP Singh told the CBI that during the testimony Rajesh Kumar Verma filed affidavit copies of seven registers of vehicle registration in court. Also verified it. He identified the signature of then District Transport Officer Yogendra Paswan on all the pages. Vehicle Registration Register is the entry of business and private vehicles.

It is to be mentioned that after the fodder scam case was exposed, the CBI investigation revealed that in cattle ranching department, cattle, food, medicines, etc. for cattle were transported by scooters, motorcycles and cars.

The number of vehicles that came out in the CBI investigation was scooters, motorcycles and cars. Under this, the statement of Assistant Commissioner of the District Transport Officer was filed in the court.

The CBI will try to prove the matter in the court that transport of animals and foders from private vehicles, scooters, motorcycles, cars etc. for commercial vehicles in the animal husbandry department has been carried out.

The CBI has registered an FIR under the fodder scam case RC 47 A / 96 against illegal withdrawal of 139.35 crores from Donda Treasury. In the case of the CBI, 799 witnesses have been made. In it 451st witness Rajesh Kumar Verma was present.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.