बैतूल:छत्तीसगढ़ के महाकुम्भ राजिम पंहुचे भगवान बालाजी ,13 फरवरी तक रहेंगे प्रवास पर

Advertisements

NEWS IN HINDI

बैतूल:छत्तीसगढ़ के महाकुम्भ राजिम पंहुचे भगवान बालाजी ,13 फरवरी तक रहेंगे प्रवास पर

बैतूल। छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध महाकुम्भ राजिम में भारत के पांचवे धाम श्री रुक्मणी बालाजी मंदिर बालाजीपुरम से भगवान बालाजी की प्रतिमा को भी ले जाया गया है। मन्दिर के मुख्य पुजारी असीम पण्डा ने बताया कि राजिम महाकुम्भ 31 जनवरी से 13 फरवरी तक रहेगा। तब तक भगवान बालाजी भी राजिम में रहेंगे पंडा जी यह भी बताया की राजिम में बालाजीपुरम मंदिर जैसा ही एक मंदिर बनाया गया है। जिसमे बालाजी भगवान को रखा जायेगा जंहा महाकुम्भ में आये सभी भक्त भगवान् के दर्शन कर सकेंगे गुरुवार सुबह 5 बजे पूजा अर्चना के बाद भगवान बालाजी की प्रतिमा को रथ में सवार कर बालाजी भक्त निकले थे। दोपहर दो बजे रथ और बालाजी भक्त रायपुर शंकराचार्य आश्रम पंहुच गए थे। जंहा आश्रम के महंत द्वारा बालाजी की पूजा अर्चना की गई उसके बाद भगवान बालाजी को राजिम तक बाजे गाजे के साथ जुलूस के द्वारा ले जाया गया। शाम 6 बजे भगवान की सन्ध्या आरती की गई। बालाजीपुरम मन्दिर से इस महाकुम्भ में बालाजी भगवान के रथ के साथ मन्दिर संस्थापक सेम वर्मा, जयदेवी वर्मा, राम वर्मा, असीम पण्डाजी, बंटी वर्मा, पंकज पटेरिया, सहित बालाजी भक्त गए हुए है।

NEWS IN ENGLISH

Betul: Lord Balaji from Mahakumbh Rajim, Chhattisgarh, will stay on February 13

Betul In the famous Maha Kumbh Rajim of Chhattisgarh, the statue of Lord Balaji has also been taken from Shri Rukmani Balaji temple Balajiipuram, the fifth temple of India. The temple’s chief priest Asim Panda told that Rajim Maha Kumbha will remain from 31st January to 13th February. By then, Lord Balaji will also be staying at Rajim Panda Ji also said that a temple like Balajiipuram temple has been built in Rajim. In which Balaji God will be kept, all devotees who came to the Maha Kumbh can visit Lord Vishnu after 5 o’clock on Thursday morning, after worshiping the Lord Balaji devotees got the idol of Lord Balaji riding in the chariot. At two in the afternoon, Rath and Balaji devotees reached the Raipur Shankaracharya Ashram. After the worship of Balaji worshiped by the Mahant of the Jhanha Ashram, Lord Balaji was taken to the Rajim along with Ghaje after a procession. In the evening at 6 o’clock, the Lord’s evening artisan was performed. In this Mahakumbh from Balajipuram temple, Balaji devotees have gone along with the Rath of Balaji God, including temple founders like Sam Verma, Jaidevi Verma, Ram Verma, Asim Pandhaji, Bunty Verma, Pankaj Pataria.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.