मध्‍यप्रदेश ने फिर लिया दो हजार करोड़ रुपए का कर्ज

Advertisements

NEWS IN HINDI

मध्‍यप्रदेश ने फिर लिया दो हजार करोड़ रुपए का कर्ज

भोपाल। मप्र सरकार ने एक बार फिर दो हजार करोड़ रुपए का कर्ज लिया है। रिजर्व बैंक के माध्यम से यह कर्ज दस साल के लिए लिया गया है। वित्त विभाग के अधिकारियों के मुताबिक कर्ज की इस राशि का उपयोग विकास कार्यों व निर्माण कार्यों में किया जाएगा। गौरतलब है कि मार्च 2017 तक राज्य सरकार के ऊपर डेढ़ लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का कर्ज है। इस वित्तीय वर्ष में मप्र सरकार बाजार से साढ़े ग्यारह हजार करोड़ रुपए का कर्ज ले चुकी है। जबकि राज्य सरकार 2017-18 में 23 हजार करोड़ रुपए तक लोन ले सकती है। इससे पहले चार से पांच बार किस्तों में बाजार से कर्ज लिया जा चुका है।

ज्यादा चुकानी होगी ब्याज दर
अधिकारियों के मुताबिक राज्य सरकार ने वित्तीय वर्ष के अंतिम महीनों में कर्ज लिया है, इसलिए सरकार को ज्यादा ब्याज दर चुकानी होगी। आमतौर पर सरकार पहली तीन तिमाही में ही जरूरत के मुताबिक कम ब्याज दरों पर लोन लेती है। गौरतलब है कि जीएसटी के बाद चरमराई राजस्व व्यवस्था की वजह से सरकार के पास फंड की कमी है। वहीं राज्य के लगातार बढ़ते खर्चों के चलते सरकार कर्ज लेने को मजबूर हुई है।

वित्तीय वर्ष 2017-18 में कब-कितना लिया कर्ज
तारीख–लोन राशि
18 अगस्त– 1000 करोड़

8 सितंबर– 2000 करोड़

22 सितंबर– 2000 करोड़

27 अक्टूबर– 2000 करोड़

19 जनवरी– 2000 करोड़ (राशि रुपए में)

 

NEWS IN English

Madhya Pradesh takes two thousand crores loan again

Bhopal. The MP government once again took a loan of Rs. 2 thousand crore. This loan has been taken through the Reserve Bank for ten years. According to the Finance Department officials, this amount of loan will be utilized for development work and construction work. Significantly, till March 2017, the state government has a debt of more than Rs 1.5 lakh crore. In this financial year, the MP Government has taken loan of Rs. 11 thousand crores rupees from the market. Whereas, the state government can take loans up to Rs 23 thousand crore in 2017-18. Before that loan has been borrowed from four to five times in the market.

Interest rate will be overpaid
According to the officials, the state government has taken a loan in the last months of the financial year, so the government has to pay a higher interest rate. Generally the government takes loans at low interest rates as per requirement in the first three quarters. It is noteworthy that after the GST, the government has a shortage of funds due to the revenue collection system. At the same time, the state has been forced to borrow due to the rising state expenditure.

How much of the loan taken in the financial year 2017-18
Date – loan amount
August 18 – 1000 Cr.

September 8 – 2000 crores

September 22 – 2000 Crores

27 Oct – 2000 crores

19 January – 2000 crores (in rupees)

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.