महाकाल के सिर बंधा सेहरा, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने भेजा ध्वज

Advertisements

NEWS IN HINDI

महाकाल के सिर बंधा सेहरा, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने भेजा ध्वज

उज्जैन। धार्मिक नगरी उज्जैन में रंग पंचमी के अवसर पर बीती रात महाकाल मंदिर से परम्परागत गेर निकाली गयी, जिसमें महाकाल मंदिर का ध्वज और महाकाल का सेहरा दर्शन करने के लिए श्रद्धालु देर रात तक भीड़ में जुटे रहे. ख़ास बात ये रही की इस साल राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने एक ध्वज अपनी ओर से भेजा था.

दरअसल, रंगपंचमी पर मंगलवार रात शहर में निकली महाकाल की गेर में रंग-बिरंगी रोशनी से झिलमिलाती झांकियां ने स्वच्छता, पर्यावरण बचाओ और जल संरक्षण का संदेश दिया. महाराष्ट्र के नासिक से आया पेशवाई बैंड सबसे आकर्षण का केंद्र रहा. इसमें महिलाओं ने ढोल बजाए और करतब दिखाए. दर्शक इसकी कलाबाजियों देख और संगीत सुनकर दंग रह गए.

गेर में सबसे आगे पेशवाई बैंड चल रहा था. पीछे सेहरा दर्शन की झांकी थी. इंदौर से आया राजकमल बैंड भी जोरदार प्रस्तुति दे रहा था. 40-40 फीट लंबी ट्रालियों पर बनी झांकियों में गंगा अवतरण की झांकी में शिव की जटा से गंगा को बहते दिखाया. यह जल संरक्षण का संदेश दे भी दे रही थी. यमपुरी की झांकी भी आकर्षण का केंद्र थी. इसके पीछे स्वच्छता का संदेश देते हुए झांकी निकाली, जिसमें गोल घूमती हुई पृथ्वी का दृश्य बनाया था, जिसे भगवान विष्णु के अवतार वराह भगवान पृथ्वी को सागर में से निकालकर बाहर लाते हुए नजर आए.

वीरभद्र का रथ, चांदी का ध्वज, मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन द्वारा भोपाल से भेजा ध्वज भी गेर में निकला. गेर तोपखाना, दौलतगंज चौराहा, फवारा चौक, नई सड़क कंठाल चौराहा,सतीगेट, बड़ा सराफा, छत्री चौक,गोपाल मंदिर, पटनी बाजार, गुदरी चौराहा होते हुए रात को वापस महाकाल मंदिर पहुंचकर समाप्त हुई.

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Mahakal’s head was tied to Sehhra, Governor Anandiben Patel sent the flag

Ujjain On the occasion of Rang Panchami in the religious city of Ujjain, traditional gear was taken from the Mahakalal temple, in which devotees were busy in the crowd till late night to visit the Mahakal Mandir’s flag and Mahakal Saha. The main thing was that this year, Governor Anandiben Patel sent a flag on its behalf.

Indeed, on the night of Rangapanchami, the shocking flashes of colorful lights in the gauntlet of Mahakal’s gale in the city on Tuesday night gave message of cleanliness, environment and save water. The Peshwai band, which came from Nashik in Maharashtra, was the center of attraction. In this, women played drums and played a dagger. The viewer was stunned by watching his acrobats and listening to music.

The Peshwai Band was at the forefront of Gere. The back was a tableau of philosophy. The Rajkamal Band from Indore was also giving a strong performance. In the floats of 40-40 feet long trolley, in the tableau of the Ganga, the river Ganga flows with Shiva jata. It was also giving message of water conservation. The tableau of Yampuri was also the center of attraction. Giving a message of cleanliness behind it, the tableau was created, in which the view of the rotating earth was made, which can be seen by bringing out the incarnation of God Vishnu from Lord Vishnu, Lord Vishnu.

Virbhadra’s chariot, the flag of silver, Madhya Pradesh governor Anand Ben left Bhopal from the flag also got in gir. The Gear Artillery, Daulatganj Chouraha, Fawra Chowk, New Road Kanthal Crossing, Satgate, Big Balagha, Chhatri Chowk, Gopal Mandir, Patni Bazar, Gudri Crossroads ended on reaching the Mahakal temple on the night.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.