अतिक्रमण की कार्यवाही स्थगित करने विधायक ने की रेल प्रशासन से चर्चा

Advertisements

अतिक्रमण की कार्यवाही स्थगित करने विधायक ने की रेल प्रशासन से चर्चा

अतिक्रमण की कार्यवाही से प्रभावित होने वाले लोगों के व्यवस्थापन के लिए माँगा समय

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं सांसद नकुलनाथ से भी कराएंगे रेल्वे के उच्च अधिकारियों से चर्चा


जुन्नारदेव, (दुर्गेश डेहरिया)। रेल्वे की भूमि पर पिछले कई वर्षों से अपना मकान बनाकर रह रहे लोगों को रेल्वे विभाग से तीन दिनों के भीतर रेल्वे की जमीन खाली करने का चेतावनी मिलने के बाद से लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। रेल्वे की तरफ से पिछले काफी समय से जमीन खाली करने के नोटिस मिल रहे है। अतिक्रमणकारियों के पास व्यवस्थापन के लिए जगह नहीं होने के कारण वे कही और अपना ठिकाना नहीं बना पा रहे है।

प्रभावित लोगों ने ऐसे में जुन्नारदेव विधायक सुनील उईके के माध्यम से पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं सांसद नकुलनाथ से मदद करने की गुहार लगाईं है। इसके पूर्व भी विधायक सुनील उईके ने प्रभावितों के व्यवस्थापन के लिए स्थानीय प्रशासन से भूमि उपलब्ध कराने का निवेदन करते हुए तीन दिनों तक धरना भी दिया था. जिसके पश्चात स्थानीय प्रशासन ने तेजी से प्रयास भी प्रारम्भ कर दिए है। भूमि उपलब्ध होने में अभी कुछ समय लग रहा है। किन्तु रेल्वे प्रशासन अगले तीन दिनों में ही रेल्वे की भूमि खाली कराना चाहता है।

विधायक उईके ने काँग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ स्थानीय रेल प्रशासन से प्रभावितों को कुछ समय उपलब्ध कराने का निवेदन किया है साथ ही रेल्वे के उच्च अधिकारियों को एक पत्र लिखकर कुछ समय के लिए अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही को स्थगित करने का निवेदन किया है. विधायक सुनील उईके ने यह भी कहा है की प्रभावितों की मदद के लिए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं सांसद नकुलनाथ भी जल्द रेल विभाग के उच्च अधिकारियों से चर्चा करेंगे।

रेल्वे विभाग के अधिकारियों से चर्चा के दौरान विधायक सुनील उईके के साथ पर्यवेक्षक राजीव तिवारी, ब्लॉक अध्यक्ष घनश्याम तिरवारी, सुधीर लदरे, अरुणेश जयसवाल, अरुण साहू, निसारगुल खान, राजुद्दीन सिद्दीकी, जीतेन्द्र अग्रवाल, घनश्याम बरखाने, अंकित राय, उर्मिला आम्रवंशी, सूरज यदुवंशी, सूरज विश्वकर्मा, दिलीप बारसिया, जतर परतेती, संतोष जंघेला, शिव यादव उपस्थित रहे।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.