मप्र : भोपाल-इंदौर 6 लेन एक्सप्रेस हाइवे को केंद्र की हरी झंडी का इंतजार

Advertisements

NEWS IN HINDI

मप्र : भोपाल-इंदौर 6 लेन एक्सप्रेस हाइवे को केंद्र की हरी झंडी का इंतजार

भोपाल। राज्य सरकार को केंद्र से करीब पांच हजार किमी सड़कों के लिए हरी झंडी का इंतजार है। साथ ही महत्वाकांक्षी भोपाल-इंदौर 6 लेन एक्सप्रेस हाइवे एवं भोपाल बायपास निर्माण की मंजूरी और इसे भारतमाला में शामिल करने का आग्रह किया गया है। कई शहरों के बायपास और रिंगरोड के निर्माण संबंधी प्रस्ताव पर भी केंद्र की मंजूरी मांगी गई है। बहुप्रचारित चंबल एक्सप्रेस परियोजना के तहत 300 किमी की डीपीआर भी निर्माणाधीन बताई गई है। आगामी बजट में इन परियोजनाओं पर मध्यप्रदेश को केंद्र से स्वीकृति की अपेक्षा है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि भारतमाला परियोजना में कुछ संशोधन का सुझाव दिया गया है। इसमें प्रमुख रूप से राजधानी भोपाल को प्रदेश की व्यावसायिक राजधानी इंदौर को जोड़ने वाले 6 लेन एक्सप्रेस हाइवे एवं दोनों शहरों के बायपास का मामला भी है। करीब तीन हजार करोड़ रुपए से अधिक की इस परियोजना से दोनों शहरों की दूरी लगभग 157 किमी रह जाएगी। इससे यात्रा का समय भी घटकर औसतन दो-ढाई घंटे रह जाएगा। इसके अलावा इकॉनामिक, फीडर व इंटरनल कॉरिडोर के प्रस्ताव भी केंद्र के पास भेजे गए हैं। दोनों शहरों को जोड़ने वाले इस एक्सप्रेस हाइवे के निर्माण की जवाबदारी मप्र सड़क विकास निगम को सौंपने की अपेक्षा भी की गई है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि केंद्र इसके लिए सैद्धांतिक सहमति दे चुका है, बस अंतिम निर्णय होना बाकी है।

इन प्रमुख शहरों के बायपास को मंजूरी का इंतजार
भोपाल, इंदौर, जबलपुर, खंडवा, शिवपुरी, ओरछा, सागर बायपास और उज्जैन रिंग रोड सहित अन्य कई शहरों के बायपास मंजूरी का प्रस्ताव भी इस सूची में है। उज्जैन रिंगरोड अभी 2 लेन है जिसे 4 लेन में परिवर्तित करने का प्रस्ताव है। ग्वालियर बायपास आधा बन चुका है इसका बाकी हिस्सा भी मंजूरी का इंतजार कर रहा है। भोपाल बायपास का दक्षिणी छोर मंडीदीप-सीहोर तरफ से इंदौर एक्सप्रेस हाइवे को जोड़ेगा। इसी तरह इंदौर बायपास का धार तरफ वाले पश्चिमी हिस्से के निर्माण का प्रस्ताव भी इसमें शामिल है। भूमि अधिग्रहण एवं घाट सुधारने आदि का मामला भी प्रस्ताव में शामिल है।

बनना है डीपीआर
करीब पांच हजार किमी सड़कों में से दो हजार किमी बांड बीओटी की रही हैं। 2300 किमी नेशनल हाइवे का डीपीआर बनना है, इसमें से 1200 किमी के डीपीआर का काम चल रहा है। 500 किमी सड़कें ऐसी हैं जो दूसरे राज्यों से आकर नेशनल हाइवे से जुड़ती हैं। इन्हें इंटरस्टेट कनेक्टिविटी के तहत नेशनल हाइवे घोषित किया गया है इनमें से ज्यादातर 20 से लेकर 40 किमी के टुकड़े हैं।

 

NEWS IN English

MP: Bhopal-Indore 6-lane express highway awaiting the green signal of the center

Bhopal. The state government is awaiting a green signal for about five thousand kms of roads from the center. It has also been requested to sanction the ambitious Bhopal-Indore 6-lane expressway and Bhopal bypass and include it in Bharatmala. Center’s approval has also been sought for proposal for construction of Bypass and Ring Road in many cities. Under the well-known Chambal Express project, 300 km DPR is also under construction. Madhya Pradesh is expected to get approval from the Center on these projects in the upcoming budget. Departmental sources say some amendments have been suggested in the Bharatmala project. There is also a case of bypass in the six-lan express highway and the two cities which connect the capital city of Bhopal with the commercial capital Indore. With the project of more than Rs. 3000 crores, the distance of both cities will be approximately 157 km. It will also reduce travel time to two to two and a half hours. Apart from this, proposals for economic, feeder and internal corridors have also been sent to the Center. The responsibility for the construction of this express highway connecting the two cities has also been entrusted to the MP Road Development Corporation. Departmental sources say that the Center has given the theoretical consent for it, the final decision is yet to be taken.

Bypass of these major cities awaiting approval
Proposals to bypass clearance of many other cities including Bhopal, Indore, Jabalpur, Khandwa, Shivpuri, Orchha, Sagar Bypass and Ujjain Ring Road are also in this list. Ujjain Ring Road is currently 2 lanes which is proposed to be converted in 4 lanes. Gwalior Bypass has become half, the remaining part is also waiting for approval. The southern end of Bhopal bypass will connect the Indir Express Highway from Mandideep-Sehore side. Similarly, the proposal for construction of western part of Indore Bypass is included in it. Land acquisition and improvement of ghat etc. is also included in the proposal.

Become DPR
Of the nearly five thousand km roads, two thousand km were bonds of BOT. The DPR of 2300 km National Highway is to be constructed, out of which 1200 km DPR is in progress. There are 500 km of roads that come from other states and join the National Highway. They have been declared as National Highways under Interstate Connectivity, most of them are 20 to 40 km pieces.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.