मप्र : थानों में 24 घंटे में ऑनलाइन दर्ज हो एफआईआर : पुलिस महानिदेशक आरके शुक्ला

Advertisements

NEWS IN HINDI

मप्र : थानों में 24 घंटे में ऑनलाइन दर्ज हो एफआईआर : पुलिस महानिदेशक आरके शुक्ला

भोपाल। पुलिस थानों में क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम (सीसीटीएनएस) पर 24 घंटे के भीतर ऑनलाइन एफआईआर दर्ज की जाए। जिन थानों में नेटवर्क की समस्या है, उन्हें 72 घंटे की छूट है। एफआईआर ऑनलाइन दर्ज हो रही हैं या नहीं, इसके लिए जिलों के एसपी को सीसीटीएनएस में रोजाना 45 मिनट जांच करने के निर्देश दिए गए।

जानकारी के अनुसार पुलिस महानिदेशक आरके शुक्ला ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मैदानी अफसरों को इस संबंध में निर्देश दिए हैं। उन्होंने सीसीटीएनएस के काम की प्रगति की समीक्षा भी की। इसमें सीसीटीएनएस में दिए गए फार्मों पर काम शुरू करने को कहा गया। साथ ही सिस्टम में अपराधियों के फोटो के अलावा मर्ग के फोटो अपलोड करने पर जोर दिया गया। साथ ही विवेचना की प्रगति भी सिस्टम पर ही अपलोड किए जाने की बात कही।

बताया जाता है कि सीसीटीएनएस में अपराधियों की जानकारी में उसका आधार नंबर अपलोड करने का विकल्प भी है, लेकिन अभी अधिकांश पुलिस थानों में यह जानकारी अपलोड नहीं की जा रही है। वीडियो कॉन्फ्रेंस में सभी थानों में अपराधियों के आधार नंबर आवश्यक रूप से अपलोड करने के निर्देश दिए गए। गुम हुए व्यक्तियों और उनमें से मिलने वाले लोगों की फोटो भी तत्काल अपलोड करने को कहा है।

 

NEWS IN English

MP: Police officers lodged online in 24 hours. FIR: Police Director RK Shukla

Bhopal. Online FIR will be lodged on Crime and Criminal Tracking Network and System (CCTNS) within 24 hours in Police Stations. The police stations in which there is a network problem are 72 hours off. To ensure that FIRs are lodged online, the SPs of the districts have been instructed to conduct a 45-minute check in CCTNS daily.

According to information, Director General of Police RK Shukla has instructed the field officials through Video Conferencing on Saturday. He also reviewed the progress of CCTNS’s work. It was asked to start work on the farm given in CCTNS. In addition, emphasis was placed on uploading photos of criminals in addition to the photos of criminals in the system. Also talk about the progress of the discussion to be uploaded on the system.

It is said that CCTNS has the option of uploading the Aadhaar number in the information of the criminals, but most of the police stations are not uploading this information. Instructions were made to upload the base number of criminals in all the locations in the video conference. The photos of missing persons and the people who meet them are asked to upload immediately.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.