मप्र की पहली सरकारी बोनमेरो ट्रांसप्लांट यूनिट इंदौर के एमवाय अस्पताल में शुरू

Advertisements

NEWS IN HINDI

मप्र की पहली सरकारी बोनमेरो ट्रांसप्लांट यूनिट इंदौर के एमवाय अस्पताल में शुरू

भोपाल। प्रदेश में पहली बार एमवाय अस्पताल इंदौर में बोनमेरो ट्रांसप्लांट की यूनिट स्थापित की गई है। यूनिट में ट्रांसप्लांट की शुरुआत थैलीसीमिया पीड़ित बच्चों से की जा रही है। इसके बाद यह सुविधा सिकलसेल ऐनीमिया, ल्यूकेमिया से पीड़ित बच्चों को भी मिलेगी।

ट्रांसप्लांट के लिए 12 साल से कम उम्र के बच्चों को प्राथमिकता दी जाएगी। मरीजों के रजिस्ट्रेशन के लिए दिसंबर 2017 में इंदौर, भोपाल एवं ग्वालियर में कैंप लगाए गए थे। अब तक प्रदेश के 150 थैलेसिमिया मरीजों ने रजिस्ट्रेशन करा लिया है।

अस्पताल में पांच करोड़ रुपए की लागत से छह बिस्तर का बोनमेरो ट्रांसप्लांट सेंटर शुरू हुआ है। अस्पताल के दो डॉक्टरों को कोलंबिया विश्वविद्यालय में प्रशिक्षण दिलाया जा रहा है। वहीं शिशु रोग विभाग के दो अन्य डॉक्टरों को भी 6 माह के प्रशिक्षण पर कोलंबिया भेजा जा रहा है। चिकित्सा शिक्षा विभाग ने बोनमेरो ट्रांसप्लांट के क्षेत्र में कार्य कर रहे एनजीओ संकल्प इंडिया फाउंडेशन बेंगलुरु के साथ एमओयू किया है।

इसके अंतर्गत बोनमेरो ट्रांसप्लांट सेंटर में कार्य करने वाले ब्लड बैंक एवं रेडियोथैरेपी के चिकित्सकों, पीडियाट्रिक सर्जन, एनेस्थिशियन, प्रशासकीय अधिकारी, नर्सिंग, टेक्नीशियन एवं फार्मासिस्ट स्टाफ की बोनमेरो ट्रांसप्लांट से संबंधित ट्रेनिंग बेंगलुरु एवं अहमदाबाद में कराई जाएगी।

 

NEWS IN English

MP’s first official Bonnaro transplant unit started at the MAY Hospital in Indore

Bhopal. For the first time in the state of UP, the unit of Bonnaro Transplant has been established at Indore. The transplant in the unit is being started from children with pneumonia. This facility will also be available to children suffering from Sicklecel anemia, leukemia.

Children below 12 years of age will be given priority for transplant. Camps were installed in Indore, Bhopal and Gwalior in December 2017 for the registration of patients. So far, 150 thalassemia patients of the state have registered.

Six-bed Bonnaro Transplant Center has started at the cost of Rs 5 crore in the hospital. Two doctors of the hospital are being trained at Columbia University. At the same time, two other doctors of the Department of Pediatrician are also being sent to Columbia on 6 months of training. The Department of Medical Education has made an MoU with NGO Sankalp India Foundation Bengaluru, working in the field of Bonnaro Transplant.

Under this, training related to the Bonemero Transplant of Blood Bank and radiotherapy doctors, pediatric surgeon, anesthesia, administrative officer, nursing, technician and pharmacist staff working at the Bonemero Transplant Center will be conducted in Bengaluru and Ahmedabad.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.