मुलताई : जिलेभर में धूमधाम से मनाया गया मां ताप्ती जन्मोत्सव,डेढ़ लाख श्रद्घालुओं ने झुकाया ताप्ती के चरणों में शीश

Advertisements

NEWS IN HINDI

मुलताई : जिलेभर में धूमधाम से मनाया गया मां ताप्ती जन्मोत्सव,डेढ़ लाख श्रद्घालुओं ने झुकाया ताप्ती के चरणों में शीश

जय मालवीय
बैतूल/मुलताई। पुण्य सलिला मां ताप्ती के जन्मोत्सव अवसर पर गुरुवार को पवित्र नगरी में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। नगर सहित पूरे क्षेत्र एवं दूसरे जिलों तथा अन्य प्रदेशों से लगभग डेढ़ लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने मां ताप्ती के चरणों में शीश झुकाया और पूजा अर्चना कर पुण्य लाभ लिया। सुबह 6 बजे से ही नगर में श्रद्धालुओं का तांता लगना शुरू हो गया। दोपहर तक भीड़ चरम पर पहुंच गई। इससे ताप्ती तट पर तिल भर भी जगह नहीं बची। इस मौके पर पूरे ताप्ती तट को दुल्हन की तरह सजाया। जगह-जगह तोरण द्वार तथा लाइटिंग सहित बैलून से प्रदक्षिणा मार्ग को ऐसे सजाया गया, जिससे पूरा प्रदक्षिणा मार्ग रंग बिरंगा तथा आकर्षक नजर आया। इस पावन मौके पर ताप्ती मंदिर में मां ताप्ती की प्रतिमा को भी आकर्षक ढंग से सजाया। आयोजन में धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों सहित जनप्रतिनिधियों और जागरूक नागरिकों का सहयोग रहा। इससे मां ताप्ती का जन्मोत्सव ऐतिहासिक बन गया। इधर सुबह 5 बजे मां ताप्ती का वैदिक मंत्रों के साथ दुग्धाभिषेक किया गया। वहीं सूरत से आए एक दल द्वारा मां ताप्ती का पूजन किया।

151 साड़ियों की चढ़ाई मां ताप्ती को चुनरी
श्रद्घालुओं ने सुबह 11 बजे ताप्ती तट से विशाल चुनरी यात्रा निकाली। इसमें कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त हेमंत विजयराव देशमुख, हनि सरदार, हरिश पटेल, मोनू खंडेलवाल सहित हजारों श्रद्घालुओं ने 151 साड़ियों की चुनरी पूरे भक्ति भाव के साथ चढ़ाई। चुनरी लेकर भक्तों ने ताप्ती सरोवर की परिक्रमा लगाई। सुबह ताप्ती तट पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने पहुंचकर पूजा अर्चना की। इसके बाद मां ताप्ती को चुनरी अर्पित की गई।

धूमधाम से निकली मां ताप्ती की शोभायात्रा
ताप्ती जन्मोत्सव पर दोपहर विविध झांकियों के साथ मां ताप्ती की शोभायात्रा निकली, जो नगर के प्रमुख मार्गों से होकर गुजरी। शोभायात्रा में डेढ़ दर्जन झांकियां शामिल हुईं, जो आकर्षण का केंद्र रहीं। शोभायात्रा में जहां नगर के जय बजरंग अखाडे के पहलवानों ने एक से बढ़कर एक हैरत अंगेज कारनामे दिखाए, वहीं देवी देवताओं की झांकियों ने सबका ध्यान आकर्षित किया। शोभायात्रा गाजे बाजे तथा डीजे के साथ नगर के प्रमुख मार्गों से गुजरी, जिसमें श्रद्धालुओं का उत्साह देखने योग्य रहा। शोभायात्रा में जहां मां ताप्ती रथ पर सवार होकर निकलीं। वहीं साक्षात मां ताप्ती की झांकी के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ रही।

भंडारे में ली प्रसादी
पवित्र नगरी की परंपरा के अनुसार मां ताप्ती जन्मोत्सव पर सुबह से ही भंडारों का दौर प्रारंभ हो गया जो रात तक चलता रहा। नगर के धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों सहित नागरिकों ने बसस्टैंड, काली मंदिर के सामने, ताप्ती आरती घाट के पास, गाायत्री मंदिर सहित स्टेशन रोड,बैतूल रोड पर सतत भंडारे का आयोजन किया। इस दौरान सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भंडारा प्रसादी ग्रहण की। नगर सहित क्षेत्र से भी श्रद्धालुओं ने मुलताई पहुंचकर भंडारे का आयोजन किया।

चाक चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था
पवित्र नगरी में जन्मोत्सव के अवसर पर सुबह से लेकर रात तक लाखों श्रद्धालु पहुंचे। एएसपी घनश्याम मालवीय तथा एसडीओपी अनिल कुमार शुक्ल ने सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मी मौजूद रहे। वहीं महिला पुलिसकर्मी भी मुस्तैद नजर आईं। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जगह-जगह बैरिकेट्स लगाए गए तथा माइक से सावधानी बरतने के निर्देश दिए।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 NEWS IN ENGLISH

Mulatai: Tapti Janmotsava celebrated with great fame in the district, 1.5 lakh devotees bowed at the feet of Tapti

Jai Malavi
Betul / Multan. On the occasion of the birth anniversary of Purnya Salima Maa Tapti, the holy city was full of pilgrims. More than 150,000 devotees from the entire region and other districts and other states including the city bowed their heads at the feet of mother Tapti and worshiped after receiving worship. From 6 a.m. in the city, the pilgrimage began to appear. By noon the crowd reached the peak. This did not leave the sesame even on the Tapti coast. On this occasion, the entire Tapti beach is decorated like a bride. The path of Pradakshina was decorated with a ballon and an ocean of light, with a space of light and with a light, the entire Pradakshina path was painted and looked attractive. On this sacred occasion, Tapti Temple also decorated the statue of Mother Tapti in a charming manner. Organizations including religious and social organizations, including representatives of public representatives and aware citizens. This made Mother Tapti’s birth anniversary a historic one. Here at 5 o’clock Mother Tapti was milked with Vedic Mantras. While worshiping Mother Tapti by a team from Surat.

151 Sarees climbing Mother Tapti
The devotees took huge Chunar Yatra from Tapti coast at 11 in the morning. Thousands of devotees, including Hemant Vijayrao Deshmukh, Honey Sardar, Harish Patel, Monu Khandelwal, Cabinet Ministerial status, climb over 151 saris with full devotion. The devotees revolted around Tapti Sarovar. A large number of pilgrims reached the Tapti on the morning and worshiped the devotees. After this, Mother Tapti was given a Chunari.

The celebration of mother Tapti from pomp
On the Tapti Janmotsava, a procession of Mother Tapti with diverse flicks came out on the afternoon, which passed through the main roads of the city. One hundred and a half dozen pictures were added in Shobhayatra, which was the center of attraction. In Shobhayatra, where the wrestlers of the city’s Jai Bajrang Akhade show a surprise engagement from one over to another, the floats of Goddess Gods attracted the attention of everyone. Shobhayatra was accompanied by Bajaj and DJ along with the major routes of the city, in which the enthusiasm of the devotees was noticed. In the Shobhitra where Mother Tapti rode on the chariot. At the same time there was a multitude of devotees for the visit of Saketi Tapti’s tableaux.

Lee Prasadi in Bhandara
According to the tradition of the holy city, on the Mother Tapti Janmotsava, a period of stores started in the morning, which continued till the night. The citizens, including the religious and social organizations of the city, organized continuous Bhandara on Station Road, Betul Road, along with the Gayatri Temple, near the bus station, the Kali temple, near Tapti Aarthi Ghat. During this hundreds of pilgrims took Bhandara celebration. Since the area of ​​the city, devotees reached Mulatai and also organized Bhandara.

Chak climbing security system
Millions of pilgrims from morning till night reached the holy city on the occasion of the birth anniversary. ASP Ghanshyam Malviya and SDOP Anil Kumar Shukal reviewed the security arrangements. During this, the policemen were present on the racket. At the same time, the women policemen also looked fatigued. Barricades were set up in place of security arrangements and instructed Mike to be careful.

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.