मुलताई : समस्त आदिवासी समाज संगठन द्वारा स्कूल में प्रवेश के लिए आनलाइन परीक्षा निरस्त कराने की मांग

Advertisements

NEWS IN HINDI

मुलताई : समस्त आदिवासी समाज संगठन द्वारा स्कूल में प्रवेश के लिए आनलाइन परीक्षा निरस्त कराने की मांग

जय मालवीय
बैतूल/मुलताई। समस्त आदिवासी समाज संगठन द्वारा एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर कक्षा 6 वीं एवं 9 वीं में प्रवेश हेतु आनलाइन परीक्षा को निरस्त करने की मांग की है। इस आनलाइन परीक्षा में कंप्यूटर चलाकर परीक्षा में शामिल होना था, लेकिन आदिवासी बच्चों को कंप्यूटर चलाते नहीं आता, इन आदिवासियों के घर में मोबाइल तक नहीं है, ऐसे में आखिरकार बच्चे कंप्यूटर चलाना जानेंगे, इसलिए अधिकांश बच्चों ने इस परीक्षा में हिस्सा नहीं लिया। समस्त आदिवासी समाज संगठन के अध्यक्ष संदीप उईके ने एसडीएम को सौंपे ज्ञापन में बताया कि जनजातीय कार्य विभाग मध्यप्रदेश शासन द्वारा 26 फरवरी को कक्षां 6 वीं एवं 9 वीं में प्रवेश के लिए आनलाइन परीक्षा का आयोजन किया गया था। विभाग ने बिना शैक्षणिक स्तर जाने आदिवासी बच्चों के लिए आनलाइन परीक्षा का आयोजन कर दिया, जबकि सुविधाओं के नाम पर आदिवासी बच्चों का शोषण किया जा रहा है, सुदूर गांव में रहने वाले आदिवासी समुदाय के बच्चों का शैक्षणिक स्तर इतना मजबूत नहीं है और ना ही उन्हें कंप्यूटर का ज्ञान है। सही मायने में उनके घर पर मोबाईल तक नहीं है, ऐसे में आनलाइन परीक्षा देना मतलब कंप्यूटर देखकर आना है। इसके अलावा विभाग द्वारा परीक्षा का केंद्र गृह जिला न देकर दूसरे जिले आवंटित कर दिए गए हैं, गरीब लाचार आदिवासी बच्चों के पालक दूसरे जिला जाकर पेपर दिलाने में सर्मथ नहीं है। संदीप उईके ने कहा कि एक प्रकार से आदिवासियों के लिए यह परीक्षा मात्र दिखावा रह गई है, शासन के इस प्रकार के फैसले से आदिवासी समाज संगठन में भारी रोष व्याप्त है। इस परीक्षा को निरस्त कर जिलों में स्थानीय स्तर पर लिखित परीक्षा का आयोजन करने की मांग की है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Multai: All Aboriginal Society Organizations demanded online abolition of online examination for admission

Jai Malavi
Betul / Multai. All tribal society organizations have submitted the memorandum to SDM and demanded repeal of online examination for admission in class 6th and 9th. In this online examination, computers were to be included in the examination, but tribal children did not run the computer, these tribals do not have mobile in the house; in this way children will learn to run computers, so most of the children did not participate in this examination. In the memorandum handed over to SDM, Sandip Uike, President of the All Tribal Society Organization, said that online examination was conducted by the Department of Tribal Affairs, Madhya Pradesh on 26th February for admission in the rooms 6th and 9th. The department has organized an online examination for tribal children without going to the academic level, whereas tribal children are being exploited in the name of facilities, the education level of the tribal community living in remote villages is not so strong nor do they They have computer knowledge. In fact, there is no mobile to their home, so to take an online test is to come see the computer. Apart from this, the center of the examination has been allocated to other districts by not giving the center of the house to the district, the parents of poor tribal tribal children are not allowed to get the paper after going to another district. Sandeep Uike said that in a way, this examination has only been shown to the tribals, this type of decision has resulted in heavy rage in the tribal society organization. Repudiation of this examination and demanded for conducting written examination at the local level in the districts.

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.