बैतूल जिले में राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान 28 जनवरी को

Advertisements

NEWS IN HINDI

बैतूल जिले में राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान 28 जनवरी को

गजेन्द्र सोनी
बैतूल। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप मोजेस ने बताया कि जिले में पल्स पोलियो कार्यक्रम के प्रथम चरण का 28 जनवरी 2018 को आयोजन किया जायेगा। पल्स पोलियो अभियान भारत में प्रथम बार 1995 में प्रारंभ किया गया था। वर्ष 2014 में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा भारत को पोलियो मुक्त घोषित किया गया। किसी भी प्रकार के पोलियो के वायरस के फैलने की आशंका के मद्देनजर पल्स पोलियो अभियान अभी भी भारत में निरंतर है। भारत का लक्ष्य 1 करोड 45 लाख बच्चों को सुरक्षित करने का है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मोजेस ने स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को निर्देश जारी किये कि किसी भी घर में कोई भी 5 वर्ष तक का बच्चा पोलियो की दवा पीने से छूटने न पाये। मेटरनिटी वार्ड,बस स्टेंड, रेल्वे स्टेशन, सिनेमा हॉल, पिकनिक स्थल, चौक चौराहे, घर, बाजार र्,इंट भट्टे, मजरे, टोले, दूरस्थ स्थल, दुर्गम स्थान, स्लम ऐरिया कहीं भी कोई भी बच्चा पोलियो की दवा पीने से वंचित न रहे। आरबीएसके वाहनों एवं अन्य उपलब्ध वाहनों का मोबिलिटि में उपयोग किया जाये। दो बूंद जिंदगी की और दो बोल समझाईश के सामान्य जीवन में चमत्कारिक प्रभाव ला सकते हैं। प्रथम दिवस के बूथ कवरेज के पश्चात घर में भ्रमण के समय हर कार्यकर्ता 5 बिंदुओं पर अवश्य चर्चा करें-बच्चा आया, गया, सोया, बीमार एवं नवजात है तो परिजनों से चर्चा कर दवा पिलायें एवं उपस्थित न होने की स्थिति में संपर्क कर पुन: दवा पिलायें। जनप्रतिनिधियों की सहभागिता के साथ हर बूथ स्थल का उद्घाटन किया जावे। अभियान में प्रधानपाठकों एवं प्राचार्यों की सहभागिता सुनिश्चित हो। टीम वर्क के साथ कार्य करें। पलायन परिवारों की सूची अंतरविकासखंड एवं अंतरजिला होने पर समन्वय स्थापित कर दवा पिलाना सुनिश्चित करें। यह भी सुनिश्चित करें कि प्रत्येक आशा कार्यकर्ता संपूर्ण प्रयासों के साथ अभियान में सहयोग करें। हमारा संकल्प होना चाहिये कि एक भी बच्चा छूटने न पाये। वेक्सीन, वेक्सीन कोल्ड बॉक्स एवं वेक्सीन वेन मय डीजल दुरूस्त रहे, मार्कर पेन एवं ओपनर की उपलब्धता सुनिश्चित हो। सभी दल समय पर बूथ स्थल पर उपस्थित हों। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप मोजेस ने बताया कि पोलियो मुक्त भारत के निर्माण के लिये एकजुट होकर इस अभियान को सफल बनाया जाना है। इस अभियान के अंतर्गत जिले में शून्य से 5 वर्ष तक के 171114 बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई जायेगी। इस कार्य हेतु स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की कुल 2024 टीम कार्य करेंगी, ट्रांजिक्ट बूथ की संख्या 95 है तथा 33 मोबाइल टीम कार्य करेंगी। डॉ. मोजेस ने जनसामान्य से अपील की है कि पोलियो रविवार 28 जनवरी 2018 को अपने 0-5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो बूथ पर लायें, पोलियो की दवा पिलायें एवं देश के जागरूक एवं जिम्मेदार नागरिक होने का परिचय दें तथा पल्स पोलियो अभियान को संपूर्ण जिले में सफल बनायें।

 

NEWS IN English

National pulse polio campaign in Betul district on 28th January

Gajendra Soni
Betul Chief Prosecution and Health Officer Dr. Pradeep Moshes said that the first phase of the Pulse Polio program will be held on January 28, 2018 in the district. The Pulse Polio Campaign was first launched in India in 1995. In 2014, India was declared polio free by the World Health Organization. In view of the possibility of the spread of any kind of polio virus, the pulse polio campaign is still continuing in India. India’s goal is to secure 1 crore 45 lakh children. Chief Medical and Health Officer Dr. Moises issued instructions to the Health Department employees that no children in any household could be exempted from drinking polio drugs in any house. Maternity ward, bus stand, railway station, cinema hall, picnic spot, square intersection, home, market, intra-kilns, mills, toilets, remote places, inaccessible places, slum areas, anywhere, any child is not deprived of polio medicine. are. RBS vehicles and other available vehicles can be used in mobilization. Two drops of life and two words can bring miraculous effect in general life of explanation. At the time of first day booth coverage, every worker should discuss at 5 points- if the child has come, soya, sick and newborn, then consult with relatives and drink medicines and contact with the condition of non-attendance, Drink medicines With the participation of people representatives, every booth site should be inaugurated. The participation of the headmasters and principals in the campaign will be ensured. Work with teamwork. Be sure to provide medicines by coordinating the list of migratory families on the interstate and interstate Also make sure that each hope worker collaborates in the campaign with full efforts. Our resolve should be that even a single child can not escape. Vaccine, vaccine cold box and vaccine vane may be repairing diesel, ensure availability of marker pen and opener. All the parties present at the booth site on time. Chief Prosecutor and Health Officer Dr Pradeep Moges said that this campaign has to be successful by uniting the creation of polio free India. Under this campaign, polio medicine will be provided to 171114 children of zero to 5 years in the district. A total of 2024 teams of health workers will work for this work, the number of transit booths is 95 and 33 mobile teams will work. Dr. Moises has appealed to the public that polio on Sunday, 28th January 2018, bring the children up to 0-5 years on polio booth, drink polio and introduce the country’s conscious and responsible citizens and the Pulse Polio campaign Make a success in the entire district.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.