नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर दो साल बाद रेलवे ने रियायती फार्म में विकलांग की जगह किया दिव्यांग

Advertisements

NEWS IN HINDI

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर दो साल बाद रेलवे ने रियायती फार्म में विकलांग की जगह किया दिव्यांग

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शारीरिक रूप से अक्षम लोगों को दिव्यांग कहने का सुझाव देने के दो वर्षों बाद रेलवे ने अपने रियायती फार्म पर विकलांग की जगह दिव्यांग लिखे जाने के दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं। रेल मंत्रालय द्वारा जारी आदेश के अनुसार, नेत्रहीन शब्द की जगह दृष्टि दोष युक्त व्यक्ति (देखने में असमर्थ), गूंगे और बहरे की जगह सुनने और बोलने में दोष युक्त व्यक्ति और शारीरिक रूप से असमर्थ व्यक्तियों के लिए दिव्यांगजन लिखा जाएगा।

मंत्रालय ने संबंधित विभागों को रियायती प्रमाणपत्र के लिए प्रारूप में बदलाव करने के लिए कहा है। यह आदेश एक फरवरी से लागू हो जाएगा।
दिव्यांग, वरिष्ठ नागरिकों, छात्रों और रक्षा कर्मियों एवं अन्य विभिन्न श्रेणी के यात्रियों को रेलवे 53 फीसद रियायत देता है। इस तरह से रेलवे हर साल 1600 करोड़ रुपये की रियायत दिव्यांगो को देता है।

दिव्यांगों को किस श्रेणी में कितनी रियायत-
दूसरा दर्जा, स्लीपर एवं प्रथम श्रेणी में यात्रा करने वाले सुनने और बोलने में असमर्थ लोगों को 50 फीसद रियायत मिलती है।
दृष्टिहीन यात्रियों को दूसरा दर्जा, स्लीपर, प्रथम श्रेणी, एसी चेयर कार और एसी 3-टीयर में 75 फीसद और एसी 2-टीयर एवं एसी प्रथम श्रेणी में 50 फीसद रियायत मिलती है, जबकि अन्य दिव्यांगों को दूसरा, स्लीपर, प्रथम, एसी चेयर कार एवं एसी 3-टीयर में 75 फीसद और एसी 2-टीयर एवं एसी प्रथम श्रेणी में 50 फीसद की रियायत मिलती है।

 

NEWS IN English

New Delhi: After two years on the instructions of Prime Minister Narendra Modi, Railway has replaced disabled in the subsidized farm.

new Delhi. Two years after Prime Minister Narendra Modi suggested to physically challenged persons to be called Divya, the Railways have issued guidelines for writing Divya on their subsidized form instead of the disabled. According to the order issued by the Ministry of Railways, a person with visual impairment (unable to see) in place of visually impaired, dumb and deaf person will be written for listening and speaking person and physically disabled persons.

Ministry has asked concerned departments to make changes in format for concessional certificate. This order will be effective from February 1.
Railway gives 53% concession to Divyang, senior citizens, students and defense personnel and other different class passengers. In this way, Railways conveys the concessions of Rs 1600 crores every year to Divyanongo.

In which category, how much concession-
People who travel in second class, sleeper and first class, and unable to speak, get 50 percent concession.
Visually handicapped passengers get second rank, sleeper, first class, AC chair car and 75% in AC3-tier and AC 2-Tier and AC first class 50% concession, whereas other divisions are second, sleeper, first, AC chair 75% in car and AC 3-tier and AC 2-Tier and AC first class get 50% concession.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.