नई दिल्ली : सरकार को घेरने के लिए शरद पवार के घर मिले विपक्षी नेता

Advertisements

NEWS IN HINDI

नई दिल्ली : सरकार को घेरने के लिए शरद पवार के घर मिले विपक्षी नेता

नई दिल्ली। संसद का बजट सत्र शुरू हो चुका है और इसके साथ ही सरकार को घेरने के लिए विपक्ष की कवायदें भी तेज हो गई हैं। इस सत्र के दौरान कई मुद्दों पर मोदी सरकार को घेरने के लिए विपक्षी दलों के नेताओं ने राकांपा प्रमुख शरद पवार के घर बैठक कर साझा रणनीति तय करने पर विचार-विमर्श किया। इसमें सौ प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआइ) के लिए रक्षा, खुदरा और नागरिक उड्डयन क्षेत्रों को खोलने के सरकार के निर्णय का साझा विरोध करने पर सहमति बनी।

सूत्रों के अनुसार, इसके अलावा पवार द्वारा मुंबई से शुरू किए गए संविधान बचाओ अभियान को देशव्यापी बनाने की रणनीति पर भी विचार हुआ। चूंकि सोमवार की बैठक में ज्यादातर विपक्षी नेता नहीं पहुंच पाए थे। इसलिए यह तय किया गया कि सरकार की ओर से बजट पेश करने के बाद विपक्षी दलों की एक और बैठक पहली फरवरी को होगी।

सूत्र बताते हैं कि इसमें सभी विपक्षी दलों के नेताओं के मौजूद रहने की संभावना है। पवार के आवास पर हुई बैठक में कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद व आनंद शर्मा, नेशनल कांफ्रेंस से फारूख अब्दुल्ला, भाकपा सचिव डी राजा, माकपा से टीके तंगराजन व जदयू से निष्कासित नेता शरद यादव प्रमुख रूप से मौजूद थे। लेकिन बैठक में सपा, बसपा के किसी नेता का शामिल नहीं होना सियासी गलियारे में चर्चा का विषय बना रहा।

इससे पहले सोमवार दिन में राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद शरद पवार ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से संसद परिसर में मुलाकात कर साझा विपक्षी रणनीति तय करने पर चर्चा की।

 

NEWS IN English

New Delhi: Sharad Pawar’s home to surround the government, Opposition leader

new Delhi. The budget session of the Parliament has started, and with this, the conspiracy exercises have also become intensified to surround the government. During the session, leaders of opposition parties discussed the formation of a shared strategy by meeting the NCP chief Sharad Pawar’s house to surround the Modi government on several issues. In this, it has been agreed that the government’s decision to open defense, retail and civil aviation sectors for hundred percent foreign direct investment (FDI) was agreed.

According to the sources, besides the strategy of Pawar’s campaign to create a nation-wide campaign, the campaign launched from Mumbai by Pawar has been taken into consideration. As most of the opposition leaders could not reach the Monday meeting. Therefore it was decided that after presenting the budget on behalf of the government, another meeting of the opposition parties will be held on first February.

Sources reveal that there is a possibility of the leaders of all opposition parties to be present. In the meeting held at Pawar’s residence, Ghulam Nabi Azad and Anand Sharma of Congress, Farooq Abdullah from the National Conference, CPI Secretary D Raja, TK Tangarajan from CPI (M) and expelled leader of JDU were Sharad Yadav. But in the meeting, the absence of any leader of SP, BSP remained a subject of discussion in the political corridor.

Earlier on Monday, after the President’s address, Sharad Pawar met Sonia Gandhi and Rahul Gandhi in the Parliament premises and discussed the issue of sharing opposition strategies.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.