गेहूं के भुगतान में किसी प्रकार की बहानेबाजी नहीं चलेगी : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

Advertisements

NEWS IN HINDI

गेहूं के भुगतान में किसी प्रकार की बहानेबाजी नहीं चलेगी : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल। मार्च से शुरू होने वाली गेहूं खरीदी को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में गुरुवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि भुगतान में किसी प्रकार की बहानेबाजी नहीं चलेगी। अभी समय है, सभी व्यवस्थाएं जमा लें। बैंक अधिकारियों ने कहा कि हमें कैश फ्लो (कब कितनी राशि लगेगी) के बारे में पता लग जाए तो कोई समस्या नहीं होगी।

बैठक में अधिकारियों ने बताया कि 15 फरवरी तक गेहूं बेचने वाले किसानों का पंजीयन हो जाएगा। इसके बाद हम यह बताने की स्थिति में होंगे कि कितना गेहूं आएगा और कितनी राशि लगेगी। बोरों की कोई समस्या नहीं है। करीब 52 लाख बोरे लगेंगे और 50 लाख बोरे उपलब्ध हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को भुगतान में परेशानी और देरी नहीं होनी चाहिए। इसके लिए वाणिज्यिक और सहकारी बैकों में पर्याप्त नकदी रहनी चाहिए। भंडारण का आकलन भी अभी से कर लिया जाए। बैठक में मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह, अपर मुख्य सचिव वित्त एपी श्रीवास्तव सहित वित्त, खाद्य और मुख्यमंत्री सचिवालय के अधिकारी मौजूद थे।

 

NEWS IN English

No excuse for payment of wheat: Chief Minister Shivraj Singh Chauhan

Bhopal. Chief Minister Shivraj Singh Chauhan held a meeting with senior officials in the ministry on Thursday for procurement of wheat procured starting from March. He told the officials that there will be no excuse for payment. It is time now, submit all the arrangements. Bank officials said that there will be no problem if we find out about the cash flow (when will be the amount).

Officials in the meeting told that the farmers who sell wheat will be registered till February 15. After this we will be in a position to tell how much wheat will come and how much the amount will be seen. There is no problem of sacks. There will be about 52 lakh sacks and 50 lakh sacks are available.

The Chief Minister said that there should be no hassle and delay in payment to the farmers. For this, there should be sufficient cash in commercial and cooperative banks. Storage should be assessed nowadays. The meeting was attended by Chief Secretary Basant Pratap Singh, Additional Chief Secretary Finance AP Srivastava, officials of Finance, Food and Chief Minister Secretariat.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.