कोलारस विधानसभा की मतदाता सूची में गड़बड़ी पर नपेंगे अफसर

Advertisements

NEWS IN HINDI

 कोलारस विधानसभा की मतदाता सूची में गड़बड़ी पर नपेंगे अफसर
भोपाल। कोलारस विधानसभा के उपचुनाव के संचालन में लापरवाही बरतना शिवपुरी कलेक्टर तरुण राठी सहित अन्य अधिकारियों पर भारी पड़ सकता है। मतदाता सूची में गड़बड़ी को लेकर कलेक्टर आयोग के निशाने पर आ गए हैं।

दरअसल, उन्होंने पहले जो रिपोर्ट भेजी थी, उसमें सिर्फ 58 मृत मतदाताओं के नाम सूची में शामिल होने की बात कही थी, लेकिन विस्तृत रिपोर्ट ठीक इसके विपरीत आई। इसे आयोग ने काफी गंभीरता से लिया है। उपचुनाव के मतदान की वजह से आयोग ने तत्काल तो कोई कार्रवाई नहीं की पर अब कलेक्टर को नोटिस थमाया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक कोलारस विधानसभा की मतदाता सूची में मृत, स्थानांतरित और अनुपस्थित मतदाताओं के नाम बड़ी संख्या में पाए गए हैं। ऐसे मतदाताओं की संख्या 13 हजार से ज्यादा बताई जा रही है। यह बात भी शिवपुरी कलेक्टर ने गुरुवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को भेजी रिपोर्ट में बताई।

इसे मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह ने काफी आपत्तिजनक मानते हुए अपनी रिपोर्ट प्रतिकूल टिप्पणियों के साथ भेजी है। बताया जा रहा है कि मतदान से ठीक पहले रिपोर्ट मिलने से आयोग के पास कोई विकल्प नहीं था, इसलिए पीठासीन अधिकारियों को अलग से मृत, स्थानांतरित और अनुपस्थित मतदाताओं की सूची बनाकर दी गई।

साथ ही पहली बार प्रदेश में किसी उपचुनाव में छह-छह आईएएस और आईपीएस अलग से तैनात करने पड़े। इसी साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में मतदाता सूची को लेकर उठे प्रश्न से पूरी मतदाता सूची की साख पर सवाल खड़े हो गए हैं। बताया जा रहा है कि मतदाता सूची में गड़बड़ी को लेकर कलेक्टर के साथ निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी और बूथ लेवल ऑफिसरों पर गाज गिर सकती है।

मुंगावली में अफसरों को निलंबित करने के आदेश
मुंगावली की मतदाता सूची में गड़बड़ी के मामले में कलेक्टर बीएस जामोद को हटाने के अलावा तीन बूथ लेवल ऑफिसर निलंबित किए जा चुके हैं। आयोग ने तत्कालीन निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी को निलंबित करने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने जिम्मेदार अधिकारियों की मालूमात करके आयोग को नाम भी बता दिए हैं पर अभी तक निलंबन की कार्रवाई नहीं हुई है। सामान्य प्रशासन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें किसी अफसर के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश नहीं मिले हैं। बताया जा रहा है कि बीएलओ पर कार्रवाई के बाद अब निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी को निलंबन की जगह पहले कारण बताओ नोटिस थमाया जाएगा।

गलती तलाशें और ठीक करें
उधर, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने मतदाता सूची में गड़बड़ी सामने आने के बाद सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि वे मतदाता सूची को दिखवाएं। यदि गलती हो तो उसे तत्काल ठीक किया जाए। इस आधार पर भोपाल जिला प्रशासन ने राजस्व अधिकारियों की ड्यूटी भी लगा दी है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करकेhttps://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Officers on the polling list of Kolaras assembly

Bhopal. Shivpuri collector Tarun Rathi, along with other executives, may be overwhelmed by the negligence in the conduct of the by-election of the Kolaras assembly. The collector has come to the notice of the commission regarding the disturbances in the voter list.

Actually, the report that they had sent earlier had only talked about the names of 58 dead voters in the list, but the detailed report came exactly opposite. The Commission has taken it very seriously. Due to voting by bypoll, the commission did not take any action immediately, but now the notice can be given to the collector. According to sources, names of dead, moved and absentee voters have been found in large number in the voter list of the Kolaras assembly. The number of such voters is being told more than 13 thousand. Shivpuri collector said this in the report sent to the Chief Electoral Officer on Thursday.

It has been sent by Chief Electoral Officer Salina Singh as quite objectionable and sent his report with adverse comments. It is being told that due to the report being received immediately before the polling, the Commission had no option, so the presiding officers were given separate dead, moved and list of absent voters.

Also, for the first time, six to six IAS and IPS have to be deployed separately in any bye-election in the state. In the end of the year, assembly elections are going to be held, in such a situation, the question of voter list has raised the credibility of the entire voter list. It is being told that the collector along with the electoral registration officer and the booth level officials may fall on the voters list due to disturbances.

Orders to suspend officers in Mutawali
In addition to the removal of collector BS Jamod in the polling list of Mutagali voter list, three booth level officers have been suspended. The Commission has also given instructions to suspend the then Electoral Registration Officer. The office of the Chief Electoral Officer has given the name of the commission to the responsible officials, but the suspension action has not been done so far. Officials of the General Administration Department said that they have not received instructions to take action against any officer. It is being told that after the action on the BLO, the Electoral Registration Officer will be given the first show-cause notice instead of the suspension.

Find and Fix Errors
On the other hand, the Chief Electoral Officer’s office has instructed all the collectors to show the electoral roll after the disturbances in the voters’ list were revealed. If there is a mistake then it should be corrected immediately. On this basis Bhopal District Administration has also imposed the duty of the revenue officials.

 

Advertisements
Advertisements

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.