इकबाल कासकर बोला- दाऊद से फोन पर की थी बात, जज ने मांगा नंबर

Advertisements

NEWS IN HINDI

इकबाल कासकर बोला- दाऊद से फोन पर की थी बात, जज ने मांगा नंबर

नई दिल्ली माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर ने मंगलवार को थाणे की एक अदालत को बताया कि उसने अपनी गिरफ्तारी से पहले दाऊद से फोन पर बात की थी. उसके इस खुलासे पर जज ने कहा कि वह दाऊद इब्राहिम का फोन नंबर बताए. इस पर कासकर ने सफाई दी कि जिस नंबर से फोन आया था वह उसके फोन पर डिस्प्ले नहीं हो रहा था.

अपनी शर्तों पर भारत आना चाहता था दाऊद

कासकर ने यह भी कहा कि उसे यह नहीं पता है कि दाऊद फिलहाल कहां है. कासकर के वकील श्याम केसवानी ने बीच में दखल देते हुए कहा कि पहले दाऊद इब्राहिम भारत लौटना चाहता था और वकील राम जेठमलानी ने इसके लिए मध्यस्थता करने की भी कोशिश की थी. दाऊद की शर्त यह थी कि उसे मुंबई के आर्थर रोड पर स्थ‍ित जेल में रखा जाए. लेकिन सरकार ने उसकी शर्त मानने से इंकार कर दिया था. केसवानी ने कहा कि इसी वजह से दाऊद भारत नहीं लौट पाया.

9 मार्च तक पुलिस हिरासत में रहेगा कासकर

थाणे पुलिस ने कासकर और उसके गैंग के सदस्यों के खिलाफ पिछले साल दर्ज फिरौती के तीसरे मामले में इकबाल कासकर को पुलिस हिरासत में देने की मांग की. यह मामला मुंबई का है. श्याम सुंदर अग्रवाल नामक एक शख्स ने बोरिवली में एक प्लॉट खरीदा था. कासकर के लोगों ने अग्रवाल को धमकी दी, उससे करोड़ों रुपये की फिरौती ली और प्लॉट भी किसी और को सौंपने देने को मजबूर किया.

वकील श्याम सुंदर केसवानी ने कोर्ट से कहा कि कासकर को डायबिटीज और पैर में चोट की वजह से इलाज की जरूरत है. जज ने पु‍लिस से कहा कि कासकर का किसी सरकारी अस्पताल में इलाज कराएं. कासकर 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में रहेगा.

गौरतलब है कि कुछ महीनों पहले मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर एम.एन. सिंह ने भी यह खुलासा किया था कि दाऊद भारत आना चाहता था और इसके लिए वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी से संपर्क किया था.

एम.एन. सिंह के मुताबिक उस वक्त राम जेठमलानी का संदेश लेकर महेश जेठमलानी उनसे मिलने आए थे. उन्होंने बताया था कि दाऊद सरेंडर करना चाहता है. लेकिन उसकी कुछ शर्तें हैं. पहली शर्त थी कि मुंबई पुलिस उसका एनकाउंटर नहीं करेगी. दूसरी शर्त थी कि उस पर केवल मुंबई बलास्ट केस का ट्रायल चलाया जाएगा. दाऊद की तीसरी शर्त थी कि उसे जेल में रखने के बजाय हॉउस अरेस्ट रखा जाए.

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Iqbal Kaskar spoke – on the phone from Dawood, the judge asked the number

New Delhi Mafia Dawood Ibrahim’s brother Iqbal Kaskar told a court in Thane on Tuesday that he spoke to Dawood on phone before his arrest. On this disclosure, the judge said that he told the phone number of Dawood Ibrahim. On this, Kaskar cleared that the phone number from which the call came was not being displayed on his phone.

David wanted to come to India on his terms

Kaskar also said that he does not know where Dawood is right now. Kasak’s counsel Shyam Keswani intervened and said that earlier Dawood Ibrahim wanted to return to India and attorney Ram Jethmalani had also tried to mediate it. David’s condition was that he be kept in a jail located at Mumbai’s Arthur Road. But the government refused to accept its condition. Keshwani said that for this reason, Dawood did not return to India.

Kaskar will remain in police custody till 9th ​​March

Thane police demanded to confiscate Iqbal Kaskar in police custody in the third case of ransom filed against Kasark and his gang members last year. This case is from Mumbai. A man named Shyam Sundar Agarwal bought a plot in Borivli. The people of Kaskar threatened Agarwal, took ransom of crores of rupees from him and forced plots to hand over someone else.

Advocate Shyam Sundar Keswani told the court that Kaskar needs treatment due to diabetes and foot injuries. The judge told the police that Kaskar should be treated in a government hospital. Kaskar will remain in police custody till 9th ​​March.

 It is noteworthy that a few months ago former Mumbai Police Commissioner M.N. Singh also disclosed that Dawood wanted to come to India and contacted senior advocate Ram Jethmalani for this.

M.N. According to Singh, Mahesh Jethmalani had come to meet him with a message of Ram Jethmalani at that time. He had told that Dawood wanted to surrender. But there are some conditions in it. The first condition was that the Mumbai Police would not encounter him. The second condition was that only the Mumbai Ballast Case trial would be run on it. The third condition of Dawood was that he was kept in the jail instead of being kept in jail.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.