छिंदवाड़ा : पोस्टमार्टम की टेबल पर जिंदा हो गया मुर्दा..!

Advertisements

NEWS IN HINDI

छिंदवाड़ा : पोस्टमार्टम की टेबल पर जिंदा हो गया मुर्दा..!

छिंदवाड़ा। एक ऐसा सनसनीखेज मामला सामने आया है जिसमें एक जीवित युवक को मृत बताकर उसका पोस्टमार्टम कराया जा रहा था. पोस्टमार्टम के समय एक डॉक्टर ने देखा कि युवक की सांसे चल रही हैं तो उसे तत्काल उपचार के लिए चिकित्सालय पहुंचाया गया जहां से उसे नागपुर भेज दिया गया.

दरअसल, युवक एक सड़क हादसे में बुरी तरह जख्मी हो गया था. युवक को एक दिन पहले डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था और इसके पोस्टमार्टम की तैयारी भी की जा रही थी. लेकिन एक चिकित्सक ने उसकी सांसे चलते देख ली और पोस्टमार्टम करने से रोका गया. पोस्टमार्टम कक्ष से उसे निकालकर तत्काल उपचार के लिए ले जाया गया. यहां से उसे उपचार के लिए नागपुर रेफर कर दिया गया है.

युवक के परिजनों ने कहा कि सड़क हादसे के बाद युवक को नागपुर उपचार के लिए ले जाया गया था जहां उसे ब्रेन डेड घोषित किया गया बाद में उसे वापस छिंदवाडा भेजा गया, लेकिन यहां के सरकारी अस्पताल के चिकित्सकों ने मृत मानकर उसे मारचुरी में रख दिया. जब पोस्टमार्टम किया जाना था तब सारा मामला सामने आया. इस मामले की खबर लगते ही सरकारी अस्पताल में घायल युवक को देखने वालों का तांता लग गया. युवक के परिजन इसे चिकित्सकों की लापरवाही के साथ साथ चमत्कार भी मान रहे हैं. परिजनों ने इसको लेकर जांच की मांग की है.

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Chhindwara: On the table of the postmortem died alive!

Chhindwara A sensational case has emerged in which a live youth was declared dead and his post-mortem was being done. At the time of the post-mortem, a doctor saw that the young man’s respiration was carried on to the hospital for immediate treatment from where he was sent to Nagpur.

Actually, the young man was badly injured in a road accident. The youth was declared dead by the doctors a day earlier and the preparatory work of his post-mortem was also being done. But a physician saw her breathing and was stopped from post-mortem. He was taken out of the post-mortem cell and taken for immediate treatment. From here, he has been referred to Nagpur for treatment.

The family members said that after the road accident, the young man was taken to Nagpur for treatment, where he was declared a brain dead and later he was sent back to Chhindwada, but the doctors of the government hospital found him dead and kept him in Marchuri. . When the post-mortem was to be done then the whole case was exposed. As soon as the matter was being reported, the people who visited the injured youth in the government hospital were found to be tired. The young man’s family is treating it as a miracle along with the negligence of the physicians. The family has demanded a probe on this.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.