मध्यप्रदेश में नहीं खुल पाए नौ जिलों के डाकघर पासपोर्ट दफ्तर

Advertisements

NEWS IN HINDI

मध्यप्रदेश में नहीं खुल पाए नौ जिलों के डाकघर पासपोर्ट दफ्तर

भोपाल। मध्यप्रदेश में नौ जिलों के डाकघरों में खुलने वाले पासपोर्ट दफ्तर एक साल बाद भी जमीन पर नहीं उतर पाए। इस संबंध में विदेश मंत्रालय तो अपना साजो-सामान लेकर तैयार है, लेकिन डाक विभाग व्यवस्थाएं नहीं जुटा पा रहा। केंद्र सरकार ने मार्च तक इसके लिए डेडलाइन तय की है। उधर, ऑरेंज पासपोर्ट का मामला भी विदेश मंत्रालय की हरी-झंडी के इंतजार में अटक गया है। विदेश मंत्री एवं विदिशा सांसद सुषमा स्वराज की पहल पर देश में सबसे पहले विदिशा के डाकघर में पासपोर्ट दफ्तर की सुविधाएं शुरू की गईं। ग्वालियर, जबलपुर और सतना के डाकघर में भी पासपोर्ट के आवेदन जमा होने लगे, लेकिन मप्र के नौ अन्य शहरों में पासपोर्ट सेवा केंद्र खोलने का प्रस्ताव हकीकत में नहीं बदल पाया। विदेश मंत्रालय ने इस मुद्दे पर डाक विभाग को कई बार पत्र भी भेजे, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई।

इन शहरों में खुलना है केंद्र
विदेश मंत्री ने देश के कुल 83 शहरों के डाकघरों में पासपोर्ट सेवा केंद्र खोलने की मंजूरी दी है। इनमें मप्र के 13 शहर हैं। वहीं छिंदवाड़ा, बालाघाट, उज्जैन, सिवनी, सीधी, होशंगाबाद, देवास, सीहोर और बैतूल में केंद्र खुलेंगे। इन शहरों में 31 मार्च के पहले यह सुविधा शुरू होना है लेकिन डाक विभाग की उदासीनता आड़े आ रही है। क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी नीलेश श्रीवास्तव कहते हैं कि नौ शहरों में पासपोर्ट सेवा केंद्र खोलने के लिए डाक विभाग को कई बार आग्रह पत्र भेज चुके हैं। हमने इन शहरों का जल्दी ही संयुक्त निरीक्षण करने का प्रस्ताव दिया भी है। 31 मार्च के पहले केंद्र खुलना जरूरी है।

ऑरेंज पासपोर्ट का मामला
आरेंज पासपोर्ट को अब तक विदेश मंत्रालय की हरी झंडी नहीं मिल पाई। इस नए रंग के पासपोर्ट का उपयोग घर का पता प्रमाणित करने के लिए नहीं हो सकेगा। विदेशों में नौकरी करने जाने वाले जिन्हें इमिग्रेशन चैक रिक्वायर्ड (ईसीआर) पासपोर्ट दिया जाता है उन्हें ही ऑरेंज रंग का पासपोर्ट जारी किए जाने का प्रस्ताव मंथन के दौर में है। ऑरेंज पासपोर्ट को लेकर चर्चाएं शुरू होते ही प्रदेश के पासपोर्ट कार्यालय में पूछताछ भी बढ़ गई है। विदेश मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि सामान्य श्रेणी के पासपोर्ट आवेदकों को इमिग्रेशन चैक नाट रिक्वायर्ड (ईसीएनआर) का स्टेटस रहता है। ऐसे आवेदकों को पूर्ववत नीले रंग का पासपोर्ट ही जारी किया जाएगा लेकिन ऑरेंज पासपोर्ट के अंतिम पेज पर पति-पत्नी का नाम, माता-पिता का नाम, घर का पता जैसी जानकारी नहीं रखने का प्रस्ताव है।

डिजाइन पर काम
ऑरेंज कलर के पासपोर्ट की मंजूरी मिल गई तो चार रंग के हो जाएंगे पासपोर्ट। अभी नीला, सफेद और महरून रंग के जारी होते हैं। मामले में इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन (आईसीएओ) की गाइडलाइन भी मांगी गई है। उधर इंडियन सिक्यूरिटी प्रेस (नासिक) में ऑरेंज कलर की जैकेट (पासपोर्ट) को लेकर डिजाइन निर्माण की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है।

 

NEWS IN English

Post office passport office of nine districts not opened in Madhya Pradesh

Bhopal. Passport offices, which opened in the post offices of nine districts in Madhya Pradesh, have not been able to land even after one year. In this regard, the Ministry of External Affairs is ready with its accessories, but the postal department is unable to mobilize the arrangements. The central government has set deadlines for it till March. On the other hand, the case of Orange passport has also been stuck in the waiting of the Foreign Ministry’s green flag. At the initiative of External Affairs Minister and Vidisha MP Sushma Swaraj, the first of its kind in the country’s first post office, passport office facilities have been started. Passport applications started to be deposited in the post office of Gwalior, Jabalpur and Satna but the proposal to open passport service centers in nine other cities of the MP could not be converted into reality. The Foreign Ministry also sent letters to the Department of Posts many times on this issue, but the action was not taken.

Opening in these cities is the center
The External Affairs Minister has approved the opening of passport service centers in the post offices of 83 cities of the country. These include 13 cities in MP The centers will be opened in Chhindwara, Balaghat, Ujjain, Seoni, Sidhi, Hoshangabad, Dewas, Sehore and Betul. These facilities are to be started in these cities before March 31, but the postal department’s indifference is coming down. Regional passport officer Nilesh Srivastava says that many times he has sent letters to the Department of Posts for opening passport service centers in nine cities. We also offered these cities a joint inspection soon. It is necessary to open the first center on March 31.

Orange passport case
The railway passport has not yet got the green signal of the Ministry of External Affairs. This new color passport will not be used to prove home address. Proposals for issuing an orange color passport to those who go to work abroad are given an immigration check requirement (ECR) passport. As soon as discussions about the Orange passport are started, inquiries in the passport office of the state have also increased. Foreign Ministry sources say that passport applicants of general category remain the status of the Immigration Check Record (ECNR). Such applicants will be issued a blue color passport, but on the last page of the Orange passport, there is a proposal to keep the name of the spouse, the name of the parents, home address.

Work on design
Passport clearance of orange color will be received if it passes in four colors Passport Right now the blue, white and crayon colors are released. In the case, the Guidelines of the International Civil Aviation Organization (ICAO) have also been sought. On the other hand, action has been taken to design the design of orange color jacket (passport) in Indian Security Press (Nashik).

Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.