रांची : चाईबासा कोषागार मामले में लालू यादव और जगन्नाथ मिश्र दोषी करार

Advertisements

NEWS IN HINDI

रांची : चाईबासा कोषागार मामले में लालू यादव और जगन्नाथ मिश्र दोषी करार

रांची। चारा घोटाला मामले में चाईबासा कोषागार से 33.67 करोड़ रुपये की अवैध निकासी से संबंधित केस में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। लालू यादव के साथ ही कोर्ट ने जगन्नाथ मिश्र को भी दोषी ठराया गया है। सीबीआई कोर्ट के विशेष न्यायाधीश एसएस प्रसाद ने यह फैसला सुनाया। अदालत ने 10 जनवरी, 2018 को सुनवाई पूरी करते हुए फैसले के लिए तिथि निर्धारित की थी। खबरों के अनुसार कोर्ट ने इस मामले में दोषी सभी राज नेताओं को दोषी करार दे दिया है। कोर्ट के फैसले का बाद तेजस्वी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि लोग जानते हैं कि कैसे आरएसएस और भाजपा के अलावा मुख्य रूप से नीतीश कुमार लालू जी के खिलाफ षडयंत्र रचा है। हम इन सभी फैसलों के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे।

बता दें कि चाईबासा कोषागार से 33 करोड़, 67 लाख 534 रुपये की अवैध निकासी को लेकर प्राथमिकी दर्ज थी। निकासी 1992 से 93 के बीच हुई थी। राजनीतिक नेता, पशुपालन अधिकारी व आईएएस अधिकारियों की मिलीभगत से 67 जाली आवंटन पत्रों पर 33 करोड़ 67 लाख 534 रुपये की निकासी कर ली गई। जबकि मूल आवंटन 7.10 लाख रुपये ही था।

चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी से संबंधित मामले में 12 दिसंबर, 2001 को 76 आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की गई थी। ट्रायल के दौरान 14 आरोपियों की मौत हो चुकी है, वहीं तीन आरोपी सरकारी गवाह बन गए। दो आरोपियों ने दोष स्वीकार कर लिया। वहीं एक आरोपी फूल सिंह अभी तक फरार है। मामले में कुल 56 आरोपी ट्रायल फेस कर रहे हैं। इसमें लालू प्रसाद यादव व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र सहित छह राजनीतिक नेता, तीन आइएएस अधिकारी, छह पशुपालन पदाधिकारी, कोषागार पदाधिकारी सिलास तिर्की और 40 आपूर्तिकर्ता शामिल हैं।

लालू की अपील पर दो फरवरी को हाई कोर्ट में सुनवाई
चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव की अपील पर दो फरवरी को हाई कोर्ट में सुनवाई होगी। लालू की ओर से याचिका पर जल्द सुनवाई का आग्र्रह करने पर हाई कोर्ट ने यह तिथि निर्धारित की है। अधिवक्ता प्रभात कुमार ने जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में लालू प्रसाद की याचिका पर 25 जनवरी को सुनवाई करने का आग्र्रह किया।

उनकी ओर से कहा गया कि इस शुक्रवार को 26 जनवरी होने के कारण कोर्ट में अवकाश रहेगा। इस पर कोर्ट ने लालू प्रसाद की याचिका पर सुनवाई के लिए दो फरवरी की तिथि निर्धारित की। बता दें कि सीबीआइ की विशेष अदालत ने देवघर कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू प्रसाद को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है। लालू की ओर से कोर्ट के इस फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी गई है। याचिका में जमानत दिए जाने की भी मांग की गई है।

 

NEWS IN English

Ranchi: Lalu Yadav and Jagannath Mishra guilty in Chai Basha treasury case

Ranchi RJD chief Laloo Prasad Yadav has been convicted in a case related to illegal withdrawal of Rs 33.67 crore from Chaibasa treasury in the fodder scam case. Along with Lalu Yadav, the court has also convicted Jagannath Mishra. Special Judge of CBI Court SS Prasad ruled this verdict The court had fixed the date for the verdict by completing the hearing on January 10, 2018. According to reports, the court has convicted all the politicians guilty in this case. Speaking to the media after the court’s decision, Stasi said that people know how apart from the RSS and BJP, chiefly Nitish Kumar has conspired against Lalu ji. We will go to the High Court against all these decisions.

Let us know that the FIR was lodged with Chibasa Treasury for illegal withdrawal of 33 crore, 67 lakh 534 rupees. The withdrawal took place from 1992 to 93. With the collusion of political leaders, animal husbandry officers and IAS officers, 33 crores 67 lakhs 534 rupees were withdrawn on 67 forged papers. While the original allocation was only 7.10 lakh rupees.

In the case relating to illegal evacuation from Chaibasa Treasury, on December 12, 2001, charge sheet was filed in court against 76 accused. During the trial, 14 accused have been killed, while three accused became government witnesses. The two accused accepted the blame. One accused Phool Singh is still absconding. In the case, 56 accused are facing trial. There are six political leaders, including Lalu Prasad Yadav and former Bihar Chief Minister Dr Jagannath Mishra, three IAS officers, six animal husbandry officers, treasury officer Silas Tirkey and 40 suppliers.

High Court hearing on Lalu’s plea on February 2
The appeal of Lalu Prasad Yadav, convicted in the fodder scam, will be heard in the High Court on February 2. The High Court has fixed this date on the request of Lalu to hear the petition soon. Advocate Prabhat Kumar insisted on hearing on the plea of ​​Lalu Prasad on January 25 in the court of Justice Apresh Kumar Singh.

It was said on their behalf that there will be a stay on the court due to this Friday on 26th January. On this, the court fixed the February 2 date for hearing on the plea of ​​Lalu Prasad. Explain that the special court of CBI has sentenced Lalu Prasad to three-and-a-half years in the case of illegal eviction from the Devgarh treasury. This decision of Laloo’s court has been challenged in the High Court. There is also a demand for bail in the petition.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.