गणतंत्र दिवस : बीटिंग रिट्रीट में भारत के जवानों ने कुछ यूं दिखाई अपनी ताकत

Advertisements

NEWS IN HINDI

गणतंत्र दिवस : बीटिंग रिट्रीट में भारत के जवानों ने कुछ यूं दिखाई अपनी ताकत

नई दिल्ली। भारत आज यानी 26 जनवरी को अपना 69वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। इस मौके पर इंडिया गेट पर भारतीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने झंडा फहराया। इस दौरान सेना व अन्य विभागों की झांकियां निकलीं। इसके साथ ही भारत-पाकिस्तान सीमा के वाघा बॉर्डर पर बीटिंग द रिट्रीट कार्यक्रम का आय़ोजन होता है। इतना ही नहीं भारतीय सेना के जवान रोज शाम में इस कार्यक्रम का आयोजन करते हैं। यह रिट्रीट 45 मिनट की होती है, जिसमें दुश्मन के सामने भारतीय जवान ताकत की नुमाइश करते हैं।

परेड के दौरान इन जवानों के पैर खुद के सर के बराबर उठते हैं। इन जवानों के परेड को देखने के लिए भारत के अलग-अलग हिस्सों से हजारों लोग आते हैं।रिट्रीट शुरू होने से पहले जवानों खास वार्म अप सेशन से गुजरना पड़ता है। इस दौरान परेड के अलावा एक और चीज बहुत मायने रखती है। जवानों की मूंछ। दुश्मन मुल्क के जवानों के सामने भारतीय जवान मूंछों को ताव देते हैं।

मूंछों की लंबाई यहां हिंदुस्तानी शान का प्रतीक होता है। इसीलिए परेड में शामिल होने वाले जवान मूंछों की खास तरीके से देखभाल करते हैं। शारीरिक ट्रेनिंग के अलावा बीटिंग रिट्रीट में शामिल होने वाले जवानों को खास पोशाक पहनकर निकलना होता है। सर पर लाल रंग की टोपी पहनते हैं। परेड में शामिल होने वाले एक जवान ने कहा कि काफी मेहनत करनी पड़ती है। ये लोग परेड से पहले काफी शांत दिखाई पड़ते हैं लेकिन उस दौरान काफी गुस्से में दिखते हैं।

बीएसएफ की महिला जवान सरहद पर देश की बेटियों का प्रतिनिधित्व करती हैं। साल 2008 के बाद बीएसएफ में महिला जवानों को शामिल करने की परंपरा शुरू हुई। जिसके कुछ साल बाद ही बीटिंग रिट्रीट में भी महिलाएं दिखने लगी। आमतौर पर सिर्फ झंडे को उतारने से पहले ही दोनों देशों के जवान हाथ मिलाते हैं। सिर्फ उसी समय को दूसरे को छूते हैं, लेकिन साल 2011 में भारत और पाकिस्तान के जवान बीटिंग रिट्रीट के दौरान आपास में उलझ गए थे।

 

NEWS IN English

Republic Day: Indian soldiers show some strength in Beating Retreat

new Delhi. Today India is celebrating its 69th Republic Day on January 26. Indian President Ramnath Kovind hoisted the flag at India Gate on this occasion Meanwhile, the flags of army and other departments came out. At the same time, the beating the retreat program is organized on the Wagah border of Indo-Pak border. Not only this, the Indian Army personnel organize this event every evening. This retreat is 45 minutes, in which the Indian youth exhibit strength in front of the enemy.

During the parade, the feet of these jawans get equal to their own sir. Thousands of people come from different parts of India to see the parade of these jaws. Before the start of retreat, the soldiers have to undergo special warm-up sessions. In the meantime, one thing besides parades is very important. Mustache of seals Indian soldiers offer tolls in front of the enemy countrymen.

The length of shoulders is a symbol of Hindustani pride. That is why the soldiers who attend the parade take care of shoulders in a special way. In addition to physical training, soldiers attending Beating Retreat have to wear a special outfit. Wear a red cap on the head. A young man who attended the parade said that he has to work hard. These people appear to be quite peaceful before the parade, but they appear very angry during that time.

BSF women jawans represent the country’s daughters on the outskirts. After the year 2008 the tradition of involving women jawans in the BSF started. Some years later, women were seen even in Beating Retreat. Generally, the soldiers of both countries shake hands just before the flag is dropped. Only touching the other person at the same time, but in 2011, the soldiers of India and Pakistan got embroiled in the beating retreat.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.