जान बचाने को गांव छोड़ स्कूल में ली शरण, नक्सलियों ने कर दी दो की हत्या

Advertisements

NEWS IN HINDI

जान बचाने को गांव छोड़ स्कूल में ली शरण, नक्सलियों ने कर दी दो की हत्या

जमुई। नक्सलियों से जान बचाने के लिए दर-दर की ठोकर खा रहे गुरमाहा गांव के दो लोगों की शुक्रवार की रात हत्या कर दी गई। गांव के लोग नक्सलियों से बचने के लिए बरहट थाना क्षेत्र के पचेश्वरी स्कूल में शरण लिए हुए थे। रात को करीब 40 नक्सलियों ने स्कूल पर हमला कर दिया। नक्सलियों ने मदन कोड़ा की स्कूल में ही हत्या कर दी। वहीं, मदन के भाई प्रमोद को अगवा कर ले गए और थोड़ी दूर ले जाकर उसकी भी हत्या कर दी।

मुखबिर बताते हैं नक्सली
गौरतलब है कि गुरमाहा गांव के लोगों पर नक्सली पुलिस के लिए मुखबिरी करने का आरोप लगाते हैं। इसी आरोप के चलते नक्सलियों ने कुछ माह पहले मां और उसके बेटे की हत्या कर दी थी। इसके बाद से गांव के लोग घर छोड़कर भाग गए थे। गांव के लोगों ने जमुई के पत्नेश्वर पहाड़ पर शरण लिया था, लेकिन कुछ दिन बाद उन्हें वहां से हटा दिया गया था। इसके बाद सभी स्कूल में छिपे हुए थे। दो लोगों की हत्या के बाद इन लोगों को अब नक्सलियों के हाथों मारे जाने का डर और अधिक सताने लगा है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Save the life, leave the village, seek refuge in school, Naxalites kill two people

Jamui Two people from Gormaha village, who were stabbed to death from the Maoists, were killed on Friday night. The people of the village were taken shelter at Pacheswari School in Burhat police station area to avoid the Maoists. About 40 Naxalites attacked school at night. The Maoists murdered Madan Koda in the school itself. At the same time, Madan’s brother Pramod was abducted and taken away a few times and killed him too.

Naxalites tell informers
It is worth mentioning that the people of Gurmaha village accused the Maoist police for making masks. Due to this allegation, the Maoists had killed the mother and her son a few months ago. After this the people of the village had left the house and fled. The people of the village had taken shelter at Jamnagar’s Pharneshwar mountain, but after some days they were removed from there. After that all were hidden in the school. After the killing of two people, these people are now more harassed by fear of being killed by the Maoists.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.