संविदा कर्मचारियों ने तैयार की सरकार के खिलाफ रणनीति,16 फरवरी से शुरू होगा चरणबद्ध आंदोलन,ढाई लाख संविदाकर्मी करेंगे हड़ताल

Advertisements

NEWS IN HINDI

संविदा कर्मचारियों ने तैयार की सरकार के खिलाफ रणनीति,16 फरवरी से शुरू होगा चरणबद्ध आंदोलन,ढाई लाख संविदाकर्मी करेंगे हड़ताल

भोपाल। नियमितिकरण की मांग को लेकर संविदा कर्मचारियों ने प्रदेश स्तरीय आंदोलन की रणनीति तैयार कर ली है। चरणबद्ध तरीके से होने वाले इस आंदोलन के तहत सबसे पहले 6 फरवरी से पूरे प्रदेश में भाजपा विधायकों और मंत्रियों के निवास के बाहर सुंदरकांड का पाठ किया जाएगा। यहीं नहीं बल्कि मांगें पूरी होने पर अलग-अलग आंदोलन के बाद सामूहिक करीब ढाई लाख संविदा कर्मचारियों द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल भी की जाएगी। मप्र. संविदा कर्मचारी अधिकारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष रमेश राठौर ने बताया कि प्रदेश सरकार संविदा कर्मचारियों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। गुरुजी, पंचायतकर्मी, दैनिक वेतन भोगी, अतिथि शिक्षकों आदि को नियमित करने के लिए शासन प्रशासन ने पहल शुरू कर दी है। वहीं सालों से नियमितिकरण की मांग कर रहे संविदा कर्मचारियों को सिर्फ आश्वासन दिया गया है। संगठन ने सरकार को नियमितिकरण को लेकर पत्र के माध्यम से सुझाव भी दिए हैं।

यह है संविदा कर्मचरियों की रणनीति
6 फरवरी : विधायकों और मंत्रियों के निवास के बाहर विरोध के कारण एकदिवसीय सुंदरकांड का पाठ।
16 फरवरी : दो-दो जिलों के संविदा कर्मचारी राजधानी में लगातार एक माह तक क्रमिक धरना देंगे।
16 मार्च : लगातार 13 दिन तक आधे दिन का अवकाश लेकर हड़ताल करेंगे।
01 अप्रैल : प्रदेश के सभी संविदा कर्मचारियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल होगी।

सरकार को दिया लिखित में सुझाव
– वर्ष 2018 में 1 लाख शासकीय कर्मचारी और रिटायर्ड हो जाएंगे । यदि संविदा कर्मचारियों को इन पदों पर संवलियन कर दिया जाएगा तो किसी भी प्रकार को कोई वित्तीय भार नहीं आएगा ।
– ढाई लाख में से दो लाख संविदा कर्मचारी केंद्र सरकार की परियोजनाएं जो कि राज्य सरकार के द्वारा संचालित होती हैं उनमें कार्यरत हैं। इन परियोजनाओं में पैसा केंद्र सरकार से आता है। जो कर्मचारी जिस परियोजना में कार्य कर रहे हैं उसी में नियमित कर दिया जाए।
– संविदा कर्मचारियों को सुप्रीम कोर्ट के अनुसार समान कार्य समान वेतन दिया जाए।

 

NEWS IN English

Strike against government, contractual employees ready to begin on February 16, phased out movement, 2.5 lakh contractual workers will strike

Bhopal. Regarding demand for regularization, contract employees have prepared a strategy for the state-level movement. Under this movement in a phased manner, first of 6th February will be the recitation of Sunderkand outside the residence of BJP legislators and ministers in the entire state. Not only this, but after completion of the demands, an indefinite strike will be done by the collective nearly 2.5 lakh contract employees after different agitations. MP Ramesh Rathore, state president of the contract employees’ office said that the state government is treating the contractual staff with step-goers. The government has started the initiative to regularize the teachers, panchayat workers, daily wages, guest teachers etc. For the same time, the contract employees demanding regularization has been given just assurance. The organization has also given suggestions to the government through regularization of the letter.

This is contractual workmanship strategy
February 6: The text of the one-day Sunderkand due to protests outside the residence of legislators and ministers.
February 16: Contracts of two districts will continuously hold the capital for one month continuously in the capital.
March 16: Continuous strike for 13 days with a half-day holiday
April 01: There will be indefinite strike of all contract employees in the state.

Written suggestions to the government
– In the year 2018, one lakh government employees will be retired. If the contractual employees will be upgraded to these positions then there will be no financial burden on any type.
– Two lakh contract workers from two and a half lakhs are employed in the central government’s projects which are operated by the state government. Money in these projects comes from the Central Government. The employees whose work they are working in can be regularized.
– Contract employees should be given equal pay in equal work according to the Supreme Court.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.