NDA में टूट: आज मोदी सरकार से इस्तीफा देंगे टीडीपी के नाराज दो मंत्री

Advertisements

NEWS IN HINDI

NDA में टूट: आज मोदी सरकार से इस्तीफा देंगे टीडीपी के नाराज दो मंत्री

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिए जाने के मुद्दे पर नाराज तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) ने केंद्र की एनडीए सरकार से अलग होने का फैसला किया है। टीडीपी के दोनों मंत्री आज सुबह मंत्री पद से अपना इस्तीफा दे देंगे। टीडीपी प्रमुख और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार देर रात प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसका ऐलान किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा नहीं निभाया है। चंद्रबाबू ने कहा, हम सरकार का हिस्सा यह सोचकर बने थे आंध्र प्रदेश के साथ न्याय होगा। हालांकि टीडीपी ने अभी एनडीए से अलग होने का एलान नहीं किया है। केंद्र सरकार में टीडीपी के अशोक गजपति राजू कैबिनेट मंत्री और वाईएस चौधरी राज्यमंत्री हैं। उधर,आंध्र प्रदेश की सरकार में शामिल भाजपा के दो मंत्रियों ने भी इस्तीफा देने का फैसला किया है।

विशेष राज्य का दर्जा संभव नहीं, दूसरे तरीकों से मदद: जेटली

टीडीपी को साधने के लिए सरकारी स्तर पर चल रहे प्रयासों के बीच भाजपा ने दो टूक कहा कि वह संसद में उसके हंगामे को और ज्यादा बर्दाश्त नहीं करेगी। टीडीपी पहले यह तय करे कि भाजपा के साथ रहना है या नहीं। भाजपा का कहना है कि साथ में रहना है तो उनकी मांगों पर रास्ता निकाला जा सकता है। लेकिन विशेष राज्य का दर्जा संभव नहीं है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने टीडीपी की मांगों पर स्थिति साफ कर दी है। बता दें कि आंध्र प्रदेश की राजनीति में भाजपा-टीडीपी के बीच टकराव बढ़ रहा है। टीडीपी सांसद दोनों सदनों को बाधित कर रहे हैं।

गेंद टीडीपी के पाले में : भाजपा नेतृत्व ने टीडीपी से कहा कि उसे साथ रहना है तो दूसरे रास्तों से समस्या का हल निकाला जा सकता है, लेकिन साथ में रहते हुए संसद में हंगामा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अब गेंद टीडीपी के पाले में है। विकल्प के तौर पर भाजपा के संपर्क में जगन मोहन के नेतृत्व वाली वाईएसआर कांग्रेस व पवन कल्याण के नेतृत्व वाला दल है।

पीएम से मिल चुके हैं चंद्रबाबू : सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री की भी टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू से पहले चर्चा हो चुकी है। टीडीपी सांसदों ने मंगलवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात कर अपनी मांगे रखी थी, जिसमें उन्होंने स्थिति साफ कर दी थी।

जेटली ने गिनाई यह वजह : जेटली ने कहा कि नए राज्य के गठन के समय विशेष राज्य का दर्जा देने की श्रेणी शामिल थी, लेकिन 14 वें वित्त आयोग में उसे केवल पहाड़ी व पूर्वोत्तर राज्यों तक सीमित कर दिया गया है। ऐसे में विशेष राज्य का दर्जा देना संभव नहीं है। हालांकि केंद्र उसे विशेष राज्यों के समकक्ष वित्तीय मदद देने को तैयार है। जेटली ने कहा कि राज्य के विभाजन के समय केंद्र सरकार ने जो वादे किए थे उन्हें पूरा किया जा रहा है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Broke into NDA: TDP’s two ministers angry over Modi’s resignation today

On the issue of granting special state status to Andhra Pradesh, the Telugu Desam Party (TDP) has decided to separate from the Center’s NDA government. Both TDP ministers will resign from the post of minister this morning. TDP chief and Andhra Pradesh Chief Minister Chandrababu Naidu made a press conference on Wednesday night and announced it. He said that the Central Government has not promised the promise of special state status to Andhra Pradesh. Chandrababu said, “We were part of government thinking that justice would be done with Andhra Pradesh.” However, the TDP has not yet announced its separation from the NDA. In the Central Government, TDP’s Ashok Gajapati Raju is the Cabinet Minister and YS Chaudhary is the Minister of State. On the other hand, two BJP ministers in the Andhra Pradesh government have also decided to resign.

Special state status is not possible, help in other ways: Jaitley

Between the ongoing efforts of the TDP to run the government, the BJP said that it will not tolerate its agitation in Parliament more. TDP should first decide whether to stay with the BJP or not. The BJP says that to stay together, the path can be drawn on their demands. But special state status is not possible. Finance Minister Arun Jaitley has cleared the situation on TDP’s demands. Let’s say that there is a clash between the BJP-TDP in Andhra Pradesh’s politics. TDP MPs are interrupting both the houses.

Ball TDP: In the face of TDP: BJP leadership told TDP that if he has to stay with him, then the solution can be solved with other ways, but while accompanying, the ruckus will not be tolerated in Parliament. Now the ball is in TDP’s lap. Alternatively, the Jasn Mohan-led YSR Congress and Pawan Kalyan-led party are in touch with the BJP.

Chandrababu has met the PM: According to sources, the Prime Minister has also been discussed before TDP leader Chandrababu Naidu. TDP MPs met Finance Minister Arun Jaitley on Tuesday and made their demands, in which they had cleared the situation.

Jaitley pointed out this reason: Jaitley said that during the formation of a new state, there was a category of special state status, but in the 14th Finance Commission, it has been limited to only hilly and northeastern states. In such a situation it is not possible to get special status status. However, the Center is ready to provide financial support for the special states. Jaitley said that the promises made by the Central Government during the partition of the state were being met.

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.