बिहार: रथ पर सवार होकर यह दुल्हन बारात लेकर पहुंची दूल्हे के द्वार

Advertisements

NEWS IN HINDI

 बिहार: रथ पर सवार होकर यह दुल्हन बारात लेकर पहुंची दूल्हे के द्वार
पटना: दुल्हन को लाने के लिए आमतौर पर आपने दूल्हे को बारात लेकर उसके घर जाते देखा और सुना होगा, लेकिन पटना के मनेर में एक दुल्हन एक रथ (बग्घी) पर सवार होकर बारातियों के साथ अपने दूल्हे को लेने उसके द्वार पहुंची. बारात में सभी लोग गुलाबी रंग की पगड़ी पहने गाजे-बाजे के साथ नृत्य करते और झूमते नजर आए. आम शादियों से अलग शुक्रवार की रात्रि में हुए इस विवाह में न दहेज का झंझट था न परंपरा की बेड़ी. मनेर टोला के निवासी नौसेना अधिकारी विनोद कुमार राय की पुत्री स्नेहा की सगाई कुछ दिन पूर्व मधुबनी के जयनगर के रहने वाले अनिल कुमार यादव के साथ हुई थी. अनिल भी नौसेना में ही लेफ्टिनेंट कमांडर हैं.

सगाई के समय ही तय हुआ था कि लड़की ही बारात लेकर दूल्हे के घर जाएगी. अनिल अपने परिवार के साथ दानापुर स्थित एक गेस्टहाउस में आकर ठहरे थे. स्नेहा शुक्रवार की शाम अपनी बहनों के साथ बग्घी पर सवार होकर बारात के साथ दानापुर गेस्ट हाउस पहुंची. दुल्हन के गांव की महिलाएं और पुरुष बराती बने थे. वर पक्ष ने बारात का स्वागत सत्कार किया. दुल्हन के पिता विनोद राय कहते हैं, “लड़कियों को लड़कों के सामान दिखाने का एक संदेश देने के तहत ये तय हुआ था कि उनकी बेटी बारात लेकर दूल्हे के घर जाएगी.”

उन्होंने कहा कि स्नेहा मुंबई में एक निजी बैंक में असिस्टेंट मैनेजर के पद पर कार्यरत है, जबकि दूसरी बेटी विनिता पुणे से एमबीबीएस कर रही है और छोटी बेटी विदुषी फैशन डिजाइनर है.इस विवाह से खुश स्नेहा ने बताया कि माता-पिता ने हम तीनों बहनों को कभी इसका एहसास नहीं होने दिया कि वे लड़कों से कम हैं. वे इस अनूठे तरीके से संपन्न हुए विवाह से भी प्रसन्न हैं. क्षेत्र में इस अनोखी बारात और शादी की चर्चा है.

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करकेhttps://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

Bihar: The bridegroom’s door reached the bridegroom by riding a chariot

Patna: In order to bring the bride, you would have seen and heard the groom accompanying the bridegroom with a procession, but in Patna’s Manar, a bride rode on a chariot (baggy) and reached her door to take her bride along with the paternal grandfather. All the people in the procession were dancing and walking in pink turban with dances and jogging. Separate from the common weddings on Friday night, there was no tension between the dowry or the tradition’s yacht. The engagement of Sneha, daughter of Naval officer Vinod Kumar Rai, resident of Maner Tola, happened some days ago with Anil Kumar Yadav, resident of Jaynagar of Madhubani. Anil is also the Lieutenant Commander in the Navy.

At the time of engagement, it was decided that the girl would take the bride and go to groom’s house. Anil stayed in a guest house in Danapur with his family. Sneha, along with his sisters on the evening of Friday, boarded the wagon and reached Danapur guest house with a procession. The bride and the men of the bride’s house were baratai. The party on behalf of the party welcomed the procession. The bride’s father, Vinod Rai, says, “It was decided that after giving a message to the girls to show the goods to the boys, their daughter would go to the groom’s house with a procession.”

He said that Sneha is working as an Assistant Manager in a private bank in Mumbai, while the other daughter is doing MBBS from Vinitan Pune and the younger daughter is a fashion designer. Sneha, happy with this marriage, told that the parents had told us that Never let sisters realize that they are less than boys. They are also happy with the marriage done in this unique way. There is talk of this unique procession and marriage in the area.

 

Advertisements
Advertisements

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.