केंद्र सरकार ने ओम प्रकाश रावत को बनाया मुख्य चुनाव आयुक्त 

Advertisements

News in hindi

केंद्र सरकार ने ओम प्रकाश रावत को बनाया मुख्य चुनाव आयुक्त 

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने नए मुख्य चुनाव आयुक्त के नाम का एलान कर दिया है। मौजूदा चुनाव आयुक्त ओम प्रकाश रावत नए मुख्य चुनाव आयुक्त होंगे।

वह अचल कुमार जोति की जगह लेंगे, जिनका कार्यकाल 23 जनवरी को समाप्त हो रहा है। रावत को मुख्य चुनाव आयुक्त बनाए जाने के साथ ही अशोक लवासा को चुनाव आयुक्त बनाने का ऐलान किया गया है।

इससे पहले लवासा वित्त सचिव रह चुके हैं। वह भी 23 जनवरी से ही अपनी जिम्मेदारी संभालेंगे। ओम प्रकाश रावत मध्य प्रदेश काडर के आइएएस ऑफिसर हैं।

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले रावत को चुनाव आयुक्त बनाया गया था। चुनाव आयुक्त बनने से पहले वो केंद्र में सचिव थे। दो दिसंबर, 1953 को जन्मे रावत 1977 बैच के आईएएस ऑफिसर हैं।

ओमप्रकाश रावत को अगस्त 2015 में चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया था। इससे पहले वह भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय में सचिव रह चुके हैं।

इसके अलावा वह रक्षा मंत्रालय में भी निदेशक के रूप में कार्य कर चुके हैं। अपने कार्यकाल के दौरान उन्हें 1994 में हुए संयुक्त राष्ट्र चुनाव के दौरान दक्षिण अफ्रीका में एक ऑब्जर्वर के रूप में प्रतिनियुक्ति मिली थी।

 

News in english

The Central Government made Om Prakash Rawat the Chief Election Commissioner

new Delhi. The Central Government has announced the name of the new Chief Election Commissioner. Current Election Commissioner Om Prakash Rawat will be the new Chief Election Commissioner. He will replace Akal Kumar Jyoti whose tenure ends on 23rd January. Along with Rawat being appointed Chief Election Commissioner, Ashok Lavasa has been declared as the Election Commissioner. Lavasa was earlier finance secretary. He will also take over the responsibility from January 23. Om Prakash Rawat is the IAS officer of Madhya Pradesh cadre. Rawat was made Election Commissioner before the Bihar Legislative Assembly election. Before becoming the Election Commissioner, he was secretary in the center. Born on December 2, 1953, Rawat is a 1977 batch IAS officer. Om Prakash Rawat was appointed Election Commissioner in August 2015. Prior to this, he has been a secretary in the Ministry of Heavy Industries and Public Enterprises. Apart from this, he has also worked as a director in the Ministry of Defense. During his tenure, he was deputed as an observer in South Africa during the United Nations election in 1994.

Advertisements
Advertisements
 
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.