आठनेर:111 किलो वजनी त्रिशूल लेकर पचमढ़ी के लिए निकले श्रद्धालु

Advertisements

NEWS IN HINDI

आठनेर:111 किलो वजनी त्रिशूल लेकर पचमढ़ी के लिए निकले श्रद्धालु

प्रकाश खातरकर
आठनेर। आठनेर पचमढ़ी स्थित भगवान महादेव के दर्शनों के लिए आठनेर से शिव भक्तों का पहला जत्था गुरुवार को भोला मंडल गुप्तेश्वर समिति के नेतृत्व में निकला। कंधे पर 111 किलो वजनी त्रिशूल लेकर निकले शिवभक्त नाचते-गाते शिवधाम पचमढ़ी के लिए रवाना हुए। शिव भक्तों ने शहर के सभी मंदिरों में पहुंचकर मत्था टेका और महा आरती की। तीर्थ यात्रियों को विदाई देने के लिए बड़ी संख्या में उनके परिजन नागरिक पहुंचे थे। भोला मंडल गुप्तेश्वर समिति के संजय गलफट, विनोद कनाठे, रवि बारस्कर ने बताया कि महाशिवरात्रि के पहले उनका मंडल सबसे पहले चौरागढ़ पचमढ़ी में पहुंचकर भगवान महादेव को त्रिशूल भेंट करेंगे। यह कठिन यात्रा है दमुआ से बस तक जाने के बाद पैदल भूरा भगत होते हुए पचमढ़ी की यात्रा की जाती है। शिवरात्रि के पहले उनका जत्था वापिस आ जाएगा।

NEWS IN ENGLISH

The pilgrims who came out for Pachmarhi carrying 111 kg of weights.

By light
Einner The first batch of Shiva devotees from eighteen to the Lord Ganesh idol of Purna Pachmarhi located in Purnamdar was led by Bhola Mandal Gupteeshwar Committee on Thursday. On the shoulder, Shivadham sits for Pachmarhi, performing with a trekk of 111 kg of weights. Shiva devotees reached all the temples in the city and got Mattha Teka and Maha Aarti. To give a farewell to the pilgrims, a large number of his relatives had reached the city. Sanjay Gulfat, Vinod Kanathe, Bhawla Mandal of Bhola Mandal Gupteeshwar Committee informed that before the Mahashivratri, their board will first reach Chauragarh Pachmarhi and present Trishul to Lord Mahadev. It is a difficult journey, after going to Damma, the journey of Pachmarhi is followed by walking on a pedestal. His baton will come back before Shivratri.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.