राजस्थान के दो इतिहासकारों ने ‘पद्मावत’ को दी हरी झंडी

Advertisements

NEWS IN HINDI

राजस्थान के दो इतिहासकारों ने ‘पद्मावत’ को दी हरी झंडी

जयपुर। इतिहास से छेड़छाड़ के आरोपों को लेकर विवादों में घिरी संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत को दो इतिहासकारों ने हरी झंडी दे दी है। सोमवार को बेंगलुरु में उन्होंने यह फिल्म देखी। दोनों ने फिल्म को राजपूतों की आन-बान और शान में बनने वाली बेहतरीन फिल्म करार दिया। राजस्थान के दो इतिहासकारों आरएस खंगारोत और बीएल गुप्ता को केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के चेयरमैन प्रसून जोशी ने फिल्म की प्रमाणिकता जांचने के लिए गठित कमेटी में शामिल किया था। इतिहासकार खंगारोत श्री राजपूत सभा जयपुर द्वारा संचालित एसएमएस इंस्टीट्यूट के निदेशक हैं, वहीं बीएल गुप्ता राजस्थान विश्वविद्यालय में इतिहास विभाग के प्रमुख हैं। दोनों का कहना है कि फिल्म पद्मावत में राजपूती शौर्य का बेहतरीन तरीके से फिल्मांकन किया गया है। गोरा को बिना सिर लड़ते देख रोंगटे खड़े हो गए। परंपराओं को समझने के लिए हर क्षत्रिय को यह फिल्म देखनी चाहिए।

 

NEWS IN English

Two historians of Rajasthan have given green signal to ‘Padmavat’

Jaipur. Two historians have given a green signal to Sanjay Leela Bhansali’s film Padmavat, which is in dispute over allegations of molestation of history. He saw this movie in Bangalore on Monday. Both of them termed the film as the best film to be made in Rajboots’ Anan-Ban and Shaan. Two historians of Rajasthan RS Khangarot and BL Gupta were nominated by the Central Board of Film Certification Board, Prasoon Joshi, in the committee constituted to check the authenticity of the film. Historian Khangarot Shri Rajput Sabha is the director of SMS Institute, run by Jaipur, while BL Gupta is the head of history department at Rajasthan University. Both say that Rajputi’s bravery has been filmed in the best manner in the film Padmavat. The rugs were standing while looking at the white without fighting the head. Every Kshatriya should see this movie to understand the traditions.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.