वनग्राम भुड़कुम (घोटी) में ग्रामनिर्माण सप्ताह संपन्न

Advertisements

👉🏻 प्रकाशनार्थ / प्रसारणार्थ समाचार

शुक्रवार, 11 मार्च 2022

वनग्राम भुड़कुम (घोटी) में ग्रामनिर्माण सप्ताह संपन्न

राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज के ग्राम स्वराज की संकल्पना

आदिवासी युवा युवतीयों ने जाना आत्मसुरक्षा एवं औषधि निर्माण

आदिवासीयों के बीच शिदोरी काला के साथ समापन


सौंसर / छिन्दवाड़ा। सौंसर विकास खंड के दूरस्थ आदिवासी वनग्राम भुड़कुम ( घोटी ) में राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज की ग्रामगीता ग्रंथ में लिखित ग्राम स्वराज की संकल्पना को जन जन तक पहुंचाने के लिए श्री गुरुदेव सेवा मंडल सौंसर द्वारा ग्रामगीता प्रणित ग्राम निर्माण सप्ताह संपन्न हुआ। जिसमें भुवैकुंठ अड्याळ टेकडी (महाराष्ट्र) के संचालक सुबोध दादा, पूर्व विधायक रामराव महाले, श्री गुरुदेव सेवाश्रम सौंसर के गुरुदेवानंद दिलीप खापरे, सामाजिक कार्यकर्ता ज्योत्सना पात्रीकर सहित अनेक सामाजिक कार्यकर्ताओं नें सहभागिता की।

आदिवासी वनग्राम भुड़कुम में विगत शुक्रवार, 4 मार्च से शुरू हुए ग्राम निर्माण सप्ताह में प्रतिदिन प्रातः 4:30 बजे से प्रातः विधी, 5:30 बजे से सामुदायिक ध्यान, सुबह 6:30 बजे से रामधुन, 9 बजे से ग्राम स्वच्छता एवं श्रमदान, दोपहर 3 बजे से ग्राम समीप जंगल में उपलब्ध औषधीय पौधों से दवाई निर्माण प्रशिक्षण, निसर्गोपचार, पंचगव्य, आयुर्वेद, सायं 6 बजे से सामुदायिक प्रार्थना तथा रात्री 8 बजे से ग्राम गीता प्रबोधन कार्यक्रम संपन्न हुआ।

इस शिविर में मुख्य मार्गदर्शक के रूप में भुवैकुंठ अड्याळ टेकडी के संचालक सुबोध दादा के साथ साथ डॉ. नवलाजी मुळे (अध्यक्ष अड्याळ टेकडी), रेखा ताई (कार्याध्यक्ष), वैद्य अरविंद मांडवकर (आयुर्वेद प्रशिक्षक), अक्षय कुळे (व्यायाम विशारद व प्रशिक्षक), गव्यसिध्द अंबटकर गुरुजी (वरोरा महाराष्ट्र) एवं मधुकर टिकले (प्रचारक गुरुदेव सेवा मंडल) थे। भुड़कुम ग्राम की  फगनीबाई की अध्यक्षता में संपन्न महिला सम्मेलन में डॉ शीतल बोकड़े, ममता वंजारी (प्रिंसिपल), डॉ. श्वेता गजभीए, एडवोकेट पुष्पा कुरोठे, डॉ. कविता शांडिल्य, श्वेता पुसदेकर (बोरगांव), रेणुका बोबडे (घोटी), श्रीमती शारदा रोड़े (चंद्रपुर महाराष्ट्र), सुनिता गुरवे (बेरडी) ने संबोधित किया।

अड्याळ टेकडी आश्रम से आए प्रशिक्षकों ने भुडकुम ग्राम के युवकों एवं युवतियों को आत्मसुरक्षा हेतु लाठी काठी के साथ साथ स्वास्थ्य रहने हेतु जीवन शैली एवं औषधि निर्माण भी सिखाया। ग्राम सभा कार्यक्रम लेकर गांव की समस्याओं को गांव में इ सुलझाने की तरकीब बताई। जिसमें पूर्व विधायक रामराव महाले, सुबोध दादा, यशवंत बापू बोबडे, डॉ. गोपाल वंजारी, नगर पालिका सभापति आनंद भाई कलम्बे, ग्राम पंचायत घोटी सचिव भद्रे, संतोष इंगळे (निमनी) आदि उपस्थित रहें।

कार्यक्रम का समापन आदिवासी ग्रामीणों के शिदोरी काला कर सभी ने भोजन किया। सभी कार्यक्रमों का संचालन ज्योत्सना पात्रीकर ने किया। कार्यक्रम की सफलतार्थ ग्राम भुडधकुम के युवा राजेश बोसम, राजु शिलु, सागर शिलु, बंडु बेटे, श्रीमती चंद्रकला बोसम, तथा अरुण खुलगे (मोहगांव), ज्ञानेश्वर गावंडे (बेरडी), मुरली पाटील (सौंसर), विठ्ठल गायकवाड़ (बेरडी), चित्रा बोबडे (घोटी), दशरथ घायवट (सौंसर), शंकर वाडेकर, ओम टेकाडे आदि ने सार्थक प्रयास किए।

Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.